1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

"कुछ ही दिनों में आजाद होगा कैटेलोनिया"

स्पेन में बुधवार को राजनीतिक उठापटक और तेज हो गयी जब कैटेलोनिया के नेता ने कहा कि यह इलाका "बस कुछ ही दिनों" में आजादी की घोषणा कर देगा. स्पेन कैटेलोनिया के जनमतसंग्रह को पहले ही गैरकानूनी बता चुका है.

कैटेलोनिया के क्षेत्रीय नेता ने बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि उनकी सरकार "इस हफ्ते के आखिर या अगले हफ्ते की शुरूआत में कदम उठायेगी." मंगलवार को लाखों की तादाद में कातलान लोगों ने रैली निकाली. ये लोग जनमतसंग्रह में वोट देने गये लोगों की पुलिस के हाथों हुई मार पिटाई पर विरोध जताने के लिए जमा हुए थे.

स्पेन की केंद्रीय सरकार और राष्ट्रीय अदालत ने इस रायशुमारी को गैरकानूनी घोषित कर दिया था. उधर कातलान नेताओं का दावा है कि रायशुमारी के नतीजों ने दिखा दिया है कि इस इलाके को अलग होने का अधिकार है और वह एकतरफा आजादी की घोषणा कर सकता है. कैटेलोनिया के नेता कार्लेस पुजदेमोन ने इंटरव्यू में कहा, "आधिकारिक रूप से वोटों की गणना का आखिरी नतीजा आने के 48 घंटे बाद हम आजादी की घोषणा कर देंगे."

कातलान नेता के बयान से कुछ ही घंटे पहले स्पेन के राजा ने प्रशासन को "संवैधानिक व्यवस्था की रक्षा" करने का आग्रह करके तनाव बढ़ा दिया. मंगलवार की रात राजा फिलिपे का नाटकीय हस्तक्षेप का लक्ष्य स्पेन में कई दशकों से चले आ रहे राजनीतिक संकट को शांत करना था लेकिन इससे मामला और बिगड़ने का अंदेशा पैदा हो गया है.

49 साल के फिलिपे कैटेलोनिया के साथ तनाव पर बोलते वक्त अब तक सावधानी बरतते आए थे, लेकिन इस बार उन्होंने अपना रुख बदल कर स्थानीय नेताओं पर कानून के बाहर जाकर काम करने का आरोप लगाया. फिलिपे ने कहा, "अपनी गैरजिम्मेदार और अवैध गतिविधियों से वे लोग कैटेलोनिया और पूरे स्पेन की आर्थिक और सामाजिक स्थिरता को जोखिम में डाल रहे हैं. यह वैध राज्य सत्ता की जिम्मेदारी है कि वह संवैधानिक व्यवस्था को कायम रखे."

इसके साथ ही राजा फिलिपे ने स्पेन के लोगों में सद्भाव को बनाये रखने की अपील दुहरायी है. रविवार की हिंसा के बाद स्पेन की संप्रभुता के लिए इसे एक संतुलन हासिल करने के कदम के रूप में देखा जा रहा है. बार्सिलोना के एक बार में फिलिपे का भाषण देख रहे लोगों ने इस पर सीटियां बजाई और छी छी कहा. 61 साल के एक शख्स ने कहा, "यह सचमुच अपमान है... किसी बात का हल करने की बजाय इसने आग में और तेल डाल दिया है. उन्होंने उन लोगों के बारे में कुछ नहीं कहा जो घायल हुए हैं, मैं कभी भी आजादी का समर्थक नहीं रहा, मेरे मां बाप एंडलूशिया के हैं लेकिन अब मैं दूसरे लोगें से ज्यादा चाहता हूं कि आजादी मिले."

कैटेलोनिया स्पेन का एक स्वायत्त राज्य है जो स्वतंत्रता की मांग कर रहा है. रविवार को इस मसले पर एक जनमतसंग्रह हुआ जिसमें आरंभिक सूचनाओं के अनुसार करीब 90 फीसदी लोगों ने स्वतंत्रता के पक्ष में मत दिया, हालांकि अभी आधिकारिक नतीजे नहीं आए हैं. इस दौरान पुलिस की हिंसा को लेकर कैटेलोनिया के लोगों में और ज्यादा नाराजगी है.

पुलिस संगठनों और राजनीतिक विशेषज्ञों ने स्पेन की सरकार को चेतावनी दी है कि वह उत्तरी हिस्से पर नियंत्रण खो सकती है. 1981 में स्पेन में सैन्य विद्रोह के बाद इसे अब तक का सबसे बड़ा संकट बताया जा रहा है. उस वक्त फिलिपे के पिता किंग खुआन कार्लोस ने टीवी पर अपने भाषण के जरिये तनाव खत्म कर दिया था.

मंगलवार को बार्सिलोना में लाखों प्रदर्शनकारी सड़कों पर निकले और राष्ट्रीय सुरक्षा बलों को इलाके से बाहर जाने के लिए कहा. इन लोगों ने उन्हें "कब्जा करने वाली सेना" कहा. रविवार को हुई हिंसा के बारे में कैटेलोनिया के नेता कार्लेस पुजदेमोन का कहना है कि करीब 900 लोगों को डॉक्टर के पास लेकर जाना पड़ा जबकि स्थानीय प्रशासन ने सिर्फ 92 लोगों के घायल होने की बात कही है. चार लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया है जिनमें दो की हालत गंभीर है. 

एनआर/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री