1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

फीडबैक

कुछ कर दिखाने का जज्बा

वेबसाइट पर आलेखों में दी गई जानकारियों पर पाठकों ने भेजी हमें अपनी टिप्प्णियां. हाल ही में क्या कुछ लिख भेजा है आप सबने, आइए देखें...

जलवायु परिवर्तन आजकल दुनिया भर में चर्चा का विषय है. ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व पर बहुत भारी है. दुनिया भर में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को सीमित करने के लिए और ग्लोबल वार्मिंग की अपरिवर्तनीय क्षति का समाधान खोजने के लिए 190 राष्ट्र वार्ता शुरू कर एक नए समझौते पर पहुंचने के प्रयास में हैं. इस विषय पर डॉयचे वेले की वेबसाइट पर प्रतिवेदन, पेरू के पर्यावरण मंत्री और सम्मेलन के मेजबान मानुएल पुल्गर विडाल के साथ डॉयचे वेले की बातचीत एवं जलवायु परिवर्तन के कारण द्वीपों के डूबने का खतरा प्रदर्शित करते हुए तस्वीरों की उपस्थापना बहुत ही अच्छी लगी. सुभाष चक्रबर्ती, नई दिल्ली

---

मैं आपकी साईट का लगभग नियमित पाठक हूं. बेहद अमोल जानकारियां हम तक पहुंचाने के लिए आपका हृदयागत अभिनंदन. मैं पत्रकारिता का ही छात्र हूं उस लिहाज से आपकी ख़बरें बहुत कुछ सिखाती हैं. अगर आपके पास भी मुझसे जुड़ा हुआ कोई कार्य हो तो अवश्य सूचित करें. हिमांशु तिवारी, कानपुर

---

आज के इतिहास में क्रांतिकारी खुदीराम बोस के जन्मदिन के अवसर पर वेबसाइट पर दी गयी जानकारी पढ़कर हमारे एक पाठक अभी सिंह लिखते हैं, "हम भी इनके जैसा कुछ अलग कर करके अपनी भारत मां के लिए शहीद हो जाना चाहते है. आज की तारीख में कोई आप जैसा नहीं सोचता. हर कोई अपने घर, ऑफिस और दूसरे कामों में व्यस्त है. आज के लोगों का मेन टारगेट सिर्फ पैसा कमाना है. सभी पैसे के गुलाम हैं. कोई आज़ाद नहीं है. पर मेरा टारगेट है लोगों के दिमाग से पैसे के भूत को उतार कर, गलत संगत, बुरे व्यवहार से मुक्त कराके एक सच्चा देश भक्त बनाना. जो देश के लिए कुछ करना चाहता है उन्हें सत्कार पूर्वक आगे लाना और अपने दम पर कुछ कर दिखाने का जज्बा रखना. हम एक ऐसे देश का निर्माण करना चाहते हैं जहां कोई लूट मार न हो, एक दूसरे की इज्जत लूटने की नहीं, एक दूसरे की इज्जत बचाने की कोशिश करें. एक दूसरे को छोटा और बड़ा दिखाने की नहीं, अपने देश को आगे बढ़ाने वाली सोच के लोगों को देखना चाहता हूं. यही मेरा एक छोटा सा सपना है और सभी देश भक्तों को मेरी सच्ची श्रद्धांजलि है."

---

डीडब्ल्यू के उच्च स्तरीय एवं विश्वनीय समाचारों का नियमित पाठक हूं. किसी भी समाचार माध्यम की विश्वनीयता व लोकप्रियता likes की संख्या नहीं वरन् संजीदा पाठकों की दृष्टि में उसका सम्मान है. डीडब्ल्यू समाचारों की सत्यता व विश्वनीयता से कोई समझौता नहीं हो सकता, अतः इसका सम्मान हम पाठकों की दृष्टि में और भी उच्च हो जाता है. जब भी किसी विषय पर बहस होती है तो हम नि:संकोच डीडब्ल्यू या बीबीसी के समाचारों का उदाहरण देते हैं, यही डीडब्ल्यू की लोकप्रियता है. आपने इतनी शीघ्रता से मेरे सुझाव का उत्तर देकर मुझे संतुष्ट किया इसके लिए मैं स्वयं को सम्मानित अनुभव करता हूं. महावीर सिंह नेहरा

---

आप अपने विचार और सुझाव हम तक ऐसे ही पहुंचाते रहिए और चुने हुए संदेशों को हम ऐसे ही अपने सभी पाठकों से साझा करते रहेंगे.


DW.COM