1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कुंबले ने क्रिकेट को पूरी तरह विदा कहा

भारत के सबसे अच्छे गेंदबाज रहे अनिल कुंबले ने क्रिकेट को पूरी तरह से अलविदा कह दिया. उन्होंने आईपीएल 4 की नीलामी से नाम वापल से लिया और कहा कि वह ग्राउंड पर नहीं उतरेंगे. कुंबले सबसे शालीन क्रिकेटरों में गिने जाते हैं.

default

आईपीएल को किया टाटा

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के कप्तान अनिल कुंबले ने 2009 में टीम के शानदार प्रदर्शन में बड़ी भूमिका निभाई और टीम को फाइनल तक ले गए. फिरकी गेंदबाज कुंबले को इस साल रॉयल चैलेंजर्स ने अपने साथ नहीं रखा था और वो उन खिलाड़ियों में शामिल थे जिनकी बोली लगनी थी. कुंबले के लिए बोली की सबसे कम राशि 4 लाख डॉलर रखी गई थी जो इस साल के लिए बाकी खिलाड़ीयों की कीमत से काफी ज्यादा है. इसी हफ्ते शनिवार और रविवार को बैंगलोर में खिलाड़ियों की बोली लगेगी.

बीसीसीआई की तरफ से जारी एक बयान में कुंबले की तरफ से कहा गया है, "मैं खिलाड़ियों की बोली से बाहर निकलना चाहता हूं. आईपीएल में मैंने अपने दौर का मजा लिया है और मैं उन सब लोगों का आभारी हूं जिन्होंने मेरा समर्थन किया." पिछले साल नवंबर में अनिल कुंबले को कर्नाटक की क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष चुना गया.

कुंबले ने 2008 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया, हालांकि अभी भी वह भारत के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं. कुंबले के खाते में टेस्ट क्रिकेट के 619 और वनडे में 337 विकेट हैं.

आईपीएल के चौथे सत्र में कुंबले के न होने से पर कई लोगों ने निराशा जताई है. आईपीएल के सीओओ सुंदर रमन ने कहा कि उनकी गैरमौजूदगी खलेगी. ट्विटर पर लिखे अपने संदेश में सुंदर रमन ने कहा है, "आईपीएल में जंबो (कुंबले) की याद आएगी. वह कई युवा खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा हैं."

आईपीएल से बाहर रहने वाले दूसरे बड़े खिला़ड़ियों में आस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान रिकी पॉन्टिंग, माइकल क्लार्क और तेज गेंदबाज मिशेल जॉन्सन भी हैं. आईपीएल का चौथा सत्र वर्ल्ड कप खत्म होने के ठीक छह दिन बाद यानी 8 अप्रैल से शुरू होगा. मुकाबले में कौन सी टीमें हिस्सा लेंगी, इसे लेकर अभी दुविधा बनी हुई है क्योंकि बोर्ड और टीमों के बीच कानूनी जंग चल रही है. आठ शुरुआती टीमों के अलावा दो नई टीमें कोच्चि और पुणे भी खिलाड़ियों की नीलामी में हिस्सा लेंगी.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links