1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कीव में दो प्रदर्शनकारियों की मौत

यूक्रेन में राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के इस्तीफे की मांग को ले कर चल रहे प्रदर्शन हिंसक होते जा रहे हैं. कीव में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई झड़प में दो लोगों के मारे जाने की खबर है.

मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि स्थानीय समय छह बजे पुलिस ने कीव में ग्रुशेव्स्की स्ट्रीट पर प्रदर्शनकारियों की बनाई घेराबंदी तोड़ दी और गिरफ्तारियां करने लगी. लोगों ने यह घेराबंदी तोड़ी या जलाई जा चुकी पुलिस की गाड़ियों से की थी. जब प्रदर्शनकारियों ने देखा कि पुलिस हमला कर रही है तो उन्होंने पत्थरबाजी कर उन्हें रोकना चाहा. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि झड़प तब हुई जब पुलिस ने भीड़ पर काबू पाने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया.

इसके जवाब में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पेट्रोल बम फेंके जिसके बाद पुलिस ने गोलियां चलाईं. भीड़ पर काबू पाने के लिए की गई इस गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गयी. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार कैमरामैन ने एक शव देखा जिसके सिर पर गोली के घाव थे. इसके बाद लोगों ने 'कातिल' और 'यूक्रेन जिंदाबाद' के नारे लगाने शुरू कर दिए.

झड़प में एक दूसरे व्यक्ति की भी मौत हुई है. हालांकि गृह मंत्रालय ने अभी एक ही व्यक्ति के मारे जाने की पुष्टि की है, लेकिन समाचार एजेंसी इंटरफैक्स को दिए बयान में मंत्रालय ने कहा है कि वह अभी मौत के कारण के बारे में कुछ नहीं बता सकती. समाचार एजेंसी एपी ने लिखा है कि मेडिकल सेंटर ने दो लोगों को मृत घोषित किया है. मेडिकल सेंटर ने कहा है कि जिस दूसरे व्यक्ति के मारे जाने की बात की जा रही है वह कीव के डायनेमो फुटबॉल स्टेडियम में गिरा मिला. यह जगह झड़प वाली जगह के पास है. मंत्रालय ने इस बारे में कोई टिप्पणी करने से मना कर दिया है.

और हिंसक होने की आशंका

ताजा रिपोर्टों के अनुसार पुलिस का जत्था ग्रुशेव्स्की स्ट्रीट के अंत तक आगे बढ़ा और बाद में फिर पीछे हट गया. ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि इसके जरिए पुलिस एक नए हमले की तैयारी कर रही है. यूक्रेन पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को चेतावनी दी है कि कम से कम दस फीट की दूरी बनाए रखें. ऐसा ना करने पर इसे पुलिसवालों की जान पर खतरा माना जाएगा और पुलिस ठोस कदम उठाने पर मजबूर होगी.

यूक्रेन के प्रधानमंत्री मिकोला अजारोव ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि सुरक्षाकर्मी बल प्रयोग कर सकते हैं. पिछले तीन दिनों में सैकड़ों लोग घायल हो चुके हैं. रूस के टेलीविजन चैनल से बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर लोग सरकार की बात नहीं मानेंगे तो मजबूरन अधिकारियों को ऐसे नए कानूनों का सहारा लेना पड़ेगा जो विवादास्पद हैं और जो देश में बड़े स्तर पर प्रदर्शनों पर रोक लगाते हैं. वहीं रूस ने भी माना है कि यूक्रेन में हालात काबू से बाहर जा रहे हैं. रूसी विदेश मंत्री सेर्गेई लावरोव ने स्थिति को 'दहशतपूर्ण' और यूरोपीय नियमों का घोर उल्लंघन' बताया है.

पुलिस द्वारा जारी किए आंकड़ों के अनुसार अब तक झड़प में 163 सुरक्षाकर्मी घायल हुए हैं और 80 को अस्पताल में दाखिल कराना पड़ा है. घायल हुए प्रदर्शनकारियों के बारे में अभी कोई आंकड़े जारी नहीं किए गए हैं.

आईबी/एमजे (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री