1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

किसका चलेगा जादूः क्लोजे या विया

जर्मनी और स्पेन के बीच मुकाबले में सबकी नजरें दो खिलाड़ियों पर टिकी होंगी. एक तरफ जर्मनी के मीरोस्लाव क्लोजे, तो दूसरी तरफ स्पेन के डेविड विया. कौन मारेगा बाजी और किसके दम से टीम पहुंचेगी फाइनल में. जानिए दोनों को.

default

डेविड विया हेडर से भी जादू कर सकते हैं

कौन बेहतर फॉर्म में है, क्लोजे या विला. अगर गोलों को देखा जाए, तो दोनों में कोई उन्नीस नहीं.

मीरोस्लाव क्लोजेः

वर्ल्ड कप में आते ही क्लोजे फॉर्म में आ गए हैं. उन्होंने जर्मन फुटबॉल लीग बुंडेसलीगा के पूरे सीजन में तीन गोल किए लेकिन महीने भर के अंदर वर्ल्ड कप में चार गोल कर दिए हैं. वह भी तब, जब रेड कार्ड की वजह से वह एक मैच नहीं खेल पाए.

- क्लोजे ने साबित किया है कि वह बड़े मुकाबलों के खिलाड़ी हैं. 2002 और 2006 के वर्ल्ड कप में उन्होंने हर बार पांच पांच

Klose auf Pressekonferenz

क्लोजे इस वर्ल्ड कप के हीरो हैं

गोल किए हैं. इस तरह उनके नाम वर्ल्ड कप में 14 गोल हैं, ब्राजील के रोनाल्डो से एक कम. अगर जर्मनी जीतता है, तो उन्हें दो मैच खेलने का मौका मिलेगा और रिकॉर्ड बनाने का भी.

- 32 साल के पोलैंड मूल के क्लोजे रिकॉर्ड से ज्यादा जर्मनी की जीत को तरजीह दे रहे हैं. उनका कहना है, "अगर मेरे रिकॉर्ड या वर्ल्ड कप में एक को चुनना हो तो मैं वर्ल्ड कप को चुनूंगा."

डेविड वियाः

- घरेलू सीरीज में ताबड़तोड़ गोल दागने के बाद बार्सिलोना फुटबॉल क्लब ने विया को रिकॉर्ड कीमत पर खरीदा है. उन्होंने घरेलू सीरीज में कुल 21 गोल ठोंके हैं.

- इस बार के वर्ल्ड कप में स्पेन ने कुल छह गोल किए हैं, जिनमें से पांच विला के बूट से हुए हैं.

- क्लोजे की ही तरह विला भी वर्ल्ड कप के खिताब को अपनी निजी उपलब्धि से कहीं ज्यादा बेहतर मानते हैं.

दोनों खिलाड़ियों को जो कुछ अलग करता है, वह है उनके खेल का स्टाइल. दोनों के खेलने का तरीका अलग है, फिर भी वे अपनी अपनी टीम में स्टार हैं.

मीरोस्लाव क्लोजेः

- क्लोजे गेंद के साथ अठखेलियां नहीं करते हैं लेकिन विपक्षी टीम के डी में पहुंचने के साथ ही उनके अंदर चीते जैसी फुर्ति आ जाती है.

- पांच फुट नौ इंच के क्लोजे अपने कद का भी बखूबी फायदा उठाना जानते हैं और हर खेल में अपने स्टाइल में जरा बहुत बदलाव ले आते हैं, जिससे विपक्षी टीम उनका काट नहीं निकाल पाती.

- पूरी तरह स्ट्राइकर के तौर पर खेलने वाले क्लोजे हेड में माहिर हैं. उन्होंने 2002 वर्ल्ड कप में पांच के पांच गोल सिर से दाग दिए थे. अलग अलग कोचों की अगुआई में वह अपने खेल को उनके पैमाने पर ढाल लेते हैं.

डेविड विया

- विया को जरूरत पड़ने पर रक्षा पंक्ति में भी लगा दिया जाता है और जरूरत पड़ने पर वह लेफ्ट आउट से भी खेल लेते हैं. वैसे वह सेंटर फॉरवर्ड के तौर पर अपना बेहतरीन फुटबॉल खेल सकते हैं.

- क्लोजे गेंद के साथ अठखेलियां करने में माहिर हैं और कितनी भी दूर से गोल पर सही निशाना लगाने के महारथी. उनके दोनों पैर बराबरी से चलते हैं और विपक्षी टीम को कभी यह पता नहीं लगने देते कि इस बार उनका राइट बूट चलेगा या लेफ्ट फुट.

जहां तक करियर का सवाल है, 32 साल के क्लोजे अपने करियर के आखिरी पड़ाव में हैं, जबकि 28 साल के विला अपने करियर के शानदार और बेहतरीन पड़ाव पर. यहां से आगे विला के पास बहुत कुछ पाने को है और क्लोजे को करियर का सुखद अंत करने का मौका.

मीरोस्लाव क्लोजेः

- क्लोजे मूल रूप से एक खिलाड़ी परिवार से हैं. उनके पिता फुटबॉलर थे, जबकि मां हैंडबॉल खेलती थीं. उनके पिता ने फ्रांस के क्लबों में भी फुटबॉल खेला है. मां ने हैंडबॉल के अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं.

- 2001 में क्लोजे ने पहली बार जर्मनी के लिए खेला और तब से वह टीम के अहम सदस्य हैं. जर्मन फुटबॉल लीग बुंडेसलीगा में उन्होंने 2004-2005 में वेर्डर ब्रेमन के लिए 25 गोल किए.

- जर्मन फुटबॉल लीग की सबसे कामयाब टीम बायर्न म्यूनिख ने 2007 में सवा करोड़ यूरो में क्लोजे को खरीदा. तब से वह म्यूनिख टीम के भी सबसे प्रभावशाली सदस्य हैं.

डेविड विया

- कुल सात साल से विया फुटबॉल जगत में अपना अलग नाम बनाने में कामयाब रहे हैं. उन्होंने खास तौर पर स्पेन के घरेलू सीरीज में दमदार प्रदर्शन किया है.

- विया ने किसी भी घरेलू चैंपियनशिप में सीजन में 15 से कम गोल नहीं किए हैं.

- उन्होंने अब तक कुल 140 गोल किए हैं. यानी सालाना औसत 20 गोल. इस लिहाज से उन्हें गोल मशीन भी कहा जाता है.

- स्पेन के लिए वह 62 मैचों में 43 गोल कर चुके हैं और स्पेन के लिए सबसे ज्यादा गोल करने वाले राउल से एक पीछे हैं. हालांकि राउल को 44 गोल करने के लिए 100 मैच खेलने पड़े थे.

रिपोर्टः एएफपी/ए जमाल

संपादनः वी कुमार

संबंधित सामग्री