1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

किर्गीज़ शरणार्थियों के लिए पहली विदेशी राहत खेप

नस्ली हिंसा से पीड़ित किर्गिस्तान में मृतकों के लिए तीन दिनों का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है. इस बीच मुसीबत में फ़ंसे लोगों के लिए अंतरराष्ट्रीय राहत आने लगी है.

default

परिजनों की खोज में शरणार्थी

पड़ोसी देश उज़बेकिस्तान में 75 हज़ार से अधिक शरणार्थी आ चुके हैं. लेकिन अब वहां सिर्फ़ बीमार और घायल लोगों को आने की इजाज़त दी जा रही है. इस वजह से उज़बेक सीमा पर दसियों हज़ार लोग इकट्ठा हो चुके हैं. एक स्थानीय अधिकारी ने सूचित किया है कि पूर्वी उज़बेकिस्तान के नगर अंदिजान में शरणार्थियों के लिए राहत सामग्री लेकर पहला विदेशी विमान पहुंचा है.

उपद्रवों से पीड़ित ओश और जलालाबाद में बुधवार को तनाव से भरी ख़ामोशी छाई रही. संघर्ष के कारण कई मुहल्ले खंडहरों में बदल गए हैं. ओश में रात को तोपों की आवाज़ भी सुनाई दे रही थी. ओश में सड़कों से जली हुई लाशें हटाई जा रही हैं. शहर में भारी संख्या में सैनिक तैनात किए गए हैं. ट्रकों से रोटी, मक्खन व सब्ज़ियां बेची जा रही हैं. शहर में पीने के पानी की भी किल्लत है.

बुधवार को इस क्षेत्र के लिए सबसे वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक उज़बेक़ राजधानी ताशकंद पहुंच रहे हैं. शरणार्थियों की स्थिति का जायज़ा लेने के लिए वे फ़रगना घाटी भी जाएंगे. अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता फिलिप क्राउली ने सूचित किया है कि विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के निर्देश के अनुसार वे शुक्रवार और शनिवार को बिशकेक में किर्गिज़ सरकार के नेताओं से बात करेंगे. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में एक मानवीय त्रासदी उभरकर सामने आ रही है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने किर्गिस्तान के सभी पड़ोसी देशों से अपील की है कि वे शरणार्थियों के लिए अपनी सीमा खोले. एमनेस्टी ने ध्यान दिलाया है कि इस वक्त वहां मानवीय मदद की बेहद ज़रूरत है.

ओश और जलालाबाद में अधिकारियों ने कहा है कि अब नागरिकों से हथियार ज़ब्त किए जाएंगे. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर उनके काम में रुकावट डाली गई, तो ताकत का इस्तेमाल किया जाएगा. स्थानीय कमांडर के दफ़्तर के अनुसार जलालाबाद में अब भी छिटपुट संघर्ष हो रहे हैं, लेकिन अब दंगे की स्थिति नहीं रह गई है.

नए सरकारी आंकड़ों के अनुसार दंगों में कम से कम 179 लोगों की मौत हो गई है. लगभग दो हज़ार लोग घायल बताए जाते हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: आभा मोंढे