1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

किम जोंग उन के मोटापे पर हंसते कोरियाई

मोटापा, राजा या रंक, किसी को भी मजाक का विषय बना सकता है. उत्तर कोरिया के नए शासक किम जोंग का मोटापा भी लोगों को गुदगुदा रहा है. पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया में उनके गोलमटोल चेहरे पर खूब कार्टून बन रहे हैं.

default

किम जोंग उन

किम जोंग उन को हाल ही में उत्तर कोरिया के शासक किम जॉंग इल ने अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था. भारी भरकम डीलडौल के धनी किम जोंग उन का बड़ा सा गोल चेहरा दक्षिण कोरिया में लोगों को खूब हंसा रहा है वहीं उत्तर कोरिया के लोग भी इस पर दबी जुबान हंस ले रहे हैं.

दक्षिण कोरिया में तो मोटापे को लेकर चुटकुलों का सिलसिला ही शुरू हो गया. हालांकि उत्तर कोरिया से भगोड़ा घोषित होने के बाद भुखमरी से जूझ रहे कुछ लोगों को किम जोंग उन के मोटापे पर हंसी नहीं बल्कि गुस्सा आ रहा है.

Nordkorea / Militär / Parade / Pjöngjang

इन्हीं में से एक हैं सुन मो जो कि कला के जरिए उत्तर कोरिया के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराते रहे हैं. उन्हें 2002 में भगोड़ा बता कर देश से निकाल दिया गया था उसके बाद से वह सियोल में पेंटिंग के जरिए अपना गुस्सा जता रहे हैं. इस बदलाव पर भी सुन मो ने पेंटिंग बनाई जिसमें मोटे तगड़े किम जोंग इल और उनके दुबले पतले पिता किम सुंग की तस्वीर बनाई गई है.

सुन मो 1990 के अकाल को याद करते हुए कहते है कि उस समय देश में लोगों को खाना चुराते और भूख से मरते देखना आम बात थी और शासक मजे से जिंदगी जी रहे थे. इसीलिए सुन मो को किम जोंग उन के कार्टून देख कर हंसी आने के बजाए गुस्सा आता है.

Flash-Galerie Nordkorea Kim Jong Un

वह कहते है, "मुझे किम जोंग उन का गोलमटोल चेहरा देख कर जी में आता है कि उसे जान से मार डालूं. इन्ही लोगों के कुशासन की वजह से हजारों लोगों को भूखे मरना पड़ा."

वहीं दक्षिण कोरिया के लेखक ब्रायन माइर्स उत्तर कोरिया पर फब्तियां कसते हुए कहते हैं, "वैसे तो उत्तर कोरियाई लोग मोटे नहीं होते हैं लेकिन वे मोटे तगड़े शासक देखना चाहते हैं." उनका इशारा कुशासन के शिकार लोगों की तरफ है जो भूखे मरने को तैयार हैं लेकिन उनमें बुरे शासकों को सत्ता से बेदखल करने का माद्दा नहीं है. माइर्स कहते हैं कि उत्तर कोरिया के लोगों को लगता है कि शासन करना बहुत बड़ा काम है इसीलिए वे उन्हें ससम्मान खाने पीने की छूट देते हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/निर्मल

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links