1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

किताब में नहीं, रगों में है सचिन का खून

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने खून से किताब लिखे जाने की खबर को गलत बताया है. किताब के प्रकाशक ने भी कहा कि उनके बयानों को गलत ढंग से पेश किया गया. फरवरी में आएगी 'सचिन ओपस' नाम की किताब.

default

सचिन ने गलत बताई की खून के इस्तेमाल की बात

मास्टर ब्लास्टर पर एक विशेष किताब तेंदुलकर के खून से लिखी जा रही है. यह खबर ब्रिटेन के एक अखबार से निकली और भारत पहुंचने तक लगातार बड़ी होती गई. दरअसल, किताब छापने वाली कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी कार्ल फोवलर का हवाला देते हुए ब्रिटेन के कुछ अखबारों ने यह खबर छापी. कहा गया कि तेंदुलकर पर लिखी जा रही किताब की 10 विशेष कॉपियों को सचिन के खून से लिखा गया है.

बस फिर क्या था, ब्रिटेन के अखबारों की खबर भारतीय मीडिया में जंगल की आग की तरह फैली. दो दिन के भीतर तेंदुलकर के खून से लिखी गई किताब पर लाखों खबरें दुनिया भर के टीवी और अखबारों की सुर्खियां बन गईं.

अब सचिन को सामने आना ही पड़ा है. टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार से बातचीत करते हुए सचिन ने कहा, ''किताब लिखने में मेरे खून का इस्तेमाल हो रहा है, इस बात में कोई सच्चाई नहीं है. मुझे गुरुवार को इस खबर की जानकारी मिली क्योंकि मेरा सारा ध्यान टेस्ट मैच पर था.''

अब तक ऐसी खबरें थी कि यह किताब सचिन की आत्मकथा होगी. लेकिन अफवाहों और अटकलों को खत्म करते हुए तेंदुलकर ने कहा, ''किताब मैं सिर्फ मेरी तस्वीरें होंगी. यह मेरी जीवनी या आत्मकथा नहीं है.''
किताब का प्रकाशन करने वाली कंपनी ओपस ने भी खून से लिखी गई किताब का खंडन किया है. सीईओ कार्ल फोवलर ने कहा, ''मेरे बयानों को गलत ढंग से लिया गया.'' तेंदुलकर पहले ऐसे क्रिकेटर हैं जिन पर ओपस किताब निकाल रही है. बेहद प्रतिष्ठित मानी जाने वाली ओपस अब तक फेरारी, मैनचेस्टर यूनाइटेड, डियागो मैराडोना, माइकल जैक्सन और बुर्ज खलीफा पर किताबें निकाल चुकी है. तेंदुलकर पर तैयार होने वाली किताब फरवरी में आएगी.

रिपोर्ट: एएफपी/ओ सिंह

संपादन: ए कुमार