1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कितना तैयार है ब्राजील मेजबानी के लिए

ब्राजील के शहर कुरितीबा पर 2014 के फुटबॉल विश्व कप के मेजबान शहर का दर्जा छिनने का खतरा मंडरा रहा है. फुटबॉल की अंतरराष्ट्रीय संस्था फीफा ने चेतावनी दी है कि कुरितीबा "एक नाजुक बिंदु" पर पहुंच गया है.

ब्राजील की चर्चा 2014 फुटबॉल विश्व कप को लेकर उतनी नहीं हो रही है, जितनी स्टेडियम तैयार कराने के काम में लेट लतीफी को लेकर. फीफा के महासचिव जेरोम वाल्के ने कहा कि कुरितीबा में अगर स्टेडियम निर्माण कार्य में तेजी नहीं आती है, तो वह इस साल के विश्व कप के मेजबान शहरों की सूची से हाथ धो बैठेगा. निर्माण स्थल का जायजा लेने के बाद वाल्के ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा, "हम बिना स्टेडियम के मैच का आयोजन नहीं करा सकते, यह एक नाजुक बिंदु पर पहुंच गया है."

43,000 दर्शकों की क्षमता वाला एरिना द बैक्जाडा करीब 90 फीसदी तैयार हो चुका है. लेकिन यह स्टेडियम बार बार लगते झटकों से ग्रस्त है. पिछले साल अगस्त में स्टेडियम पर मोबाइल छत बनाने की योजना रद्द कर दी गई. इतना कम नहीं था तो न्यायिक अधिकारियों ने अक्टूबर में सुरक्षा चिंताओं को देखते हुए काम रुकवा दिया. उसके दो महीने बाद निर्माण कार्य अस्थायी तौर पर रुक गया जब मजदूरों ने बकाया वेतन की मांग पर काम करने से इनकार कर दिया.

'पसंद के हिसाब से प्रगति नहीं'

वाल्के ने कहा, "यह एक नाजुक सवाल है. लेकिन हमें इस बारे में साफ और सीधा होने दीजिए." वाल्के ब्राजील की ढीली तैयारी को लेकर कड़ा बयान देने से पीछे नहीं हटे हैं. उन्होंने कहा, "आप जानते ही होंगे, स्टेडियम में जो ताजा हालात हैं वह हमारी पसंद के मुताबिक नहीं है. वह न केवल निर्माण के मामले में पिछड़ा है, बल्कि फीफा द्वारा तय समयसीमा के भीतर काम पूरा नहीं कर पाया है. हम सिर्फ यह नहीं चाहते कि स्टेडियम 18 फरवरी तक तैयार हो, हम प्रगति देखना चाहते हैं."

फीफा एक बार फिर इस स्टेडियम का मूल्यांकन करेगा. कुरितीबा में ऑस्ट्रेलिया और स्पेन की भिड़ंत के साथ पहले चरण के चार मैच खेले जाने हैं. वाल्के कहते हैं, "बहुत लोग यहां आना चाहते हैं, वर्ल्ड कप विजेता टीम यहां मैच खेलने वाली है. हमें उम्मीद है कि राज्य सरकार और कुरितीबा नगर परिषद के साथ हुई बातचीत का नतीजा सकारात्मक होगा.'' हालांकि कठोर चेतावनी के बावजूद वाल्के ने उम्मीद जताई है कि अधिकारी कुरितीबा स्टेडियम को समय पर पूरा करा लेंगे.

स्टेडियम बनने में देरी

ब्राजील में विश्व कप के लिए बनाए जा रहे सभी 12 स्टेडियमों को लेकर परेशानियां हुईं. तीन अलग अलग निर्माण स्थलों में भयानक हादसे पेश आए. साओ पाओलो, ब्राजीलिया और मनाउस में निर्माण कार्य के दौरान हादसे हो चुके हैं. इन स्टेडियमों को 31 दिसंबर 2013 तक तैयार हो जाना था लेकिन बार बार होती देरी की वजह से फीफा को समयसीमा बढ़ानी पड़ी.

स्टेडियम के अलावा परिवहन परियोजना को लेकर गहरी चिंता बनी हुई है. कम से कम पांच मेजबान शहर वादे के मुताबिक अलग बस लेन, ट्राम या मेट्रो का काम पूरा नहीं कर पाएंगे. हवाई सफर ही केवल मेजबान शहरों के बीच उचित परिवहन का जवाब हो सकता है. लेकिन कई हवाई अड्डों को खासी मरम्मत की जरूरत है, जो कि टूर्नामेंट के शुरू होने तक संभव नहीं.

एए/आईबी (एएफपी, रॉयटर्स, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री