1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

किंग ऑफ़ पॉप माइकल जैकसन की याद

गूगल में माइकल जैकसन के नाम पर 12 करोड़ 70 लांख एंट्रीज़ हो गई हैं. रिश्तेदारों की नज़र विरासत पर है, पत्रकार ज़िंदगी की बंद दराज़ों को खोलने में लगे हैं. क्या, क्यों, कैसे जैसे सवालों पर प्रोफ़ेसर रिसर्च कर रहे हैं.

default

पॉप संगीत की दुनिया के इस फ़रिश्ते को गुज़रे एक साल हो गया. पिछले साल सारी दुनिया में उनके अलबम की तीन करोड़ दस लाख से अधिक प्रतियां बिकीं. दिस इज़ इट नामक फ़िल्म से आय 40 करोड़ डालर तक पहुंची. बिलबोर्ड के अनुसार पिछले साल जैकसन के संगीत व उससे संबधित चीज़ों का व्यापार एक अरब डालर से अधिक रहा. हो सकता है कि अमेरिका में एल्विस प्रेस्ली या जॉन लेनन की लोकप्रियता उनके आसपास हो, लेकिन दुनिया के पैमाने पर कोई दूसरा कलाकार इस चोटी तक नहीं पहुंचा है.

Gefangene auf den Philippinen imitieren Michael Jackson Tanz

फ़िलिपीनी जेल में जैकसन का म्यूज़िक

आज सारे टीवी चैनल उन्हें समर्पित कार्यक्रमों से भरे होंगे. माइकल जैकसन के 50 सालों की याद करते हुए टोक्यो में पचास फ़ैन रात भर खुले आसमान के नीचे सोएंगे, फ़िलिपीन में सेबू जेल में क़ैदी उनके म्यूज़िक की तालों पर थिरकेंगे, उनके परिवार के नगर गैरी

Grammy Awards in Los Angeles Kinder von Michael Jackson

लायोनेल रिची से ग्रैमी अवार्ड लेते हुए माइकल जैकसन के बच्चे

में उनकी मां कैथरीन जैकसन उस छोटे से घर के सामने एक स्मारक का उद्घाटन करेंगी, जहां माइकल सहित जैकसन परिवार के पांच बच्चों ने संगीत की दुनिया में क़दम रखे थे. वी आर द वर्ल्ड - दुनिया हम हैं - इस गीत के साथ कार्यक्रम ख़त्म होगा. बच्चे प्रिंस माइकल, पेरिस और ब्लैंकेट गैरी में अपने घर में निजी तौर पर इस दिन को मनाएंगे. उनकी बेटी कहती है, आप सोच नहीं सकते, वे कितने अच्छे डैडी थे. माइकल जैकसन को अपने बच्चों से बहुत प्यार था.

माइकल की मां कैथरीन जैकसन उनकी विरासत को आगे बढ़ाने के लिए बने माइकल जैकसन एस्टेट को चलाती हैं. वहां कोई बड़ा प्रोग्राम नहीं हो रहा है. विरासत से माइकल के पिता जो को अलग रखा गया था. वे बेवरली होटल में फ़ॉरएवर माइकल नाम से हो रहे प्रोग्राम में मदद करेंगे. वहां फ़ैमिली फ़ोटोग्राफ़ की एक किताब बेची जाने वाली है, जिसका नाम है नेवर कैन से गुडबाई, कभी अलविदा न कहना.

रिपोर्ट: उज्ज्वल भट्टाचार्य

संपादन: राम यादव

संबंधित सामग्री