1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

कास्टिंग काउच से बचीं विद्या बालन

बॉलीवुड में अपने संजीदा अभिनय के लिए मशहूर विद्या बालन का कहना है कि अभिनय के प्रति उनके जुनून ने उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में होने वाले कास्टिंग काउच से बचाया.

विद्या बालन ने कहा, "मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि मुझे कभी कास्टिंग काउच या शोषण जैसी कोई चीज नहीं झेलनी पड़ी. यह काम पाने की ललक नहीं बल्कि अभिनय के प्रति मेरे जुनून की वजह से हुआ."

विद्या ने कहा, "इतने वर्ष में किसी ने मुझे ऐसी कोई बात नहीं कही जो मुझे तकलीफ दे. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मैंने किसी को मुझसे कुछ गलत नहीं करने दिया." युवा अभिनेत्रियों को शोषण से बचने की सलाह देते हुए 37 वर्षीया अभिनेत्री ने कहा, "यदि आपके साथ कास्टिंग काउच या शोषण जैसी कोई चीज हुई भी है तो अपने प्रति कटु न बनें. भूमिका और फिल्म न मिलने से दुनिया खत्म नहीं हो जाती. यह शुरूआत हो सकती है लेकिन अंत कभी नहीं हो सकती."

बेनजीर का किरदार

डर्टी पिक्चर में सिल्क स्मिता की भूमिका से मशहूर हुई विद्या बालन सिल्वर स्क्रीन पर पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो का किरदार निभा सकती हैं. उन्हें बेनजीर भुट्टो और अभिनेत्री सुचित्रा सेन का किरदार निभाने का प्रस्ताव मिला है. बॉलीवुड में भाग मिल्खा भाग और मेरी कॉम जैसी फिल्मों की सफलता के बाद इस समय जीवनियों पर आधारित फिल्में बनाने पर काफी जोर है. बेनजीर वाली फिल्म के बारे में पूछे जाने पर विद्या बालन ने कहा कि उन्हें कई सारी जीवनी आधारित फिल्मों के प्रस्ताव मिले हैं, "मैंने भी सुना है कि इस साल मैं कुछ फिल्मों में काम कर रही हूं लेकिन मुझे वास्तव में कुछ भी पता नहीं है. कई सारी जीवनी आधारित फिल्मों के प्रस्ताव मुझे मिले हैं. अभी मैंने कुछ भी तय नहीं किया है." दक्षिण भारतीय फिल्मों की मशहूर अभिनेत्री सिल्क स्मिता की जीवनी पर आधारित फिल्म डर्टी पिक्चर में भूमिका के लिए विद्या बालन को 2011 में राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था.

एमजे/आईबी (वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री