1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कायला की मौत का जिम्मेदार आईएस

सीरियाई शरणार्थियों का दर्द देखकर अमेरिकी युवती कायला मुलर की आंखें भर आती थीं. एक दिन उन्होंने तय किया कि वे सीरिया जाकर शरणार्थियों की मदद करेंगी. लेकिन इसकी कीमत कायला को खुद अपनी जान देकर चुकानी पड़ी.

बीते कुछ दिनों से कायला मुलर के घरवाले बेचैन थे. इस्लामिक स्टेट का दावा था कि जॉर्डन के हवाई हमले में 26 साल की कायला मुलर की मौत हो चुकी है. लेकिन अमेरिकी प्रशासन ने इस दावे की पुष्टि नहीं की. कायला के परिवार को तमाम आशंकाओं के बीच हल्की आशा भी थी. लेकिन मंगलवार को अमेरिकी प्रशासन ने भी कायला की मौत की पुष्टि कर दी.

टीवी पर समाचार चल रहे थे और कई दिनों से बेचैन मुलर परिवार फफक फफक कर रो रहा था. इंसानियत की मदद करने मध्यपूर्व गई उनकी बेटी आईएस के चंगुल में फंसकर मारी जा चुकी थी.

Symbolbild Massengrab Bürgerkrieg Syrien IS

इराक और सीरिया में आईएस का आतंक

कायला को श्रद्धाजंलि देते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा, "वे अमेरिका के सबसे अच्छे गुण का प्रतिनिधित्व करती हैं." अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने आईएस को कायला का हत्यारा बताया है. जॉर्डन ने भी आईएस के दावे को खारिज करते हुए कहा है कि कायला की मौत उसके हवाई हमले में नहीं हुई.

आईएस ने अगस्त 2013 में कायला को सीरिया से अगवा किया. अमेरिका ने बीते साल गर्मियों में कायला और अन्य अमेरिकी बंधकों को रिहा करवाने के लिए सैन्य ऑपरेशन भी चलाया लेकिन वह नाकाम रहा. दो दिन पहले ही अपहर्ता मौके से जा चुके थे. कायला मुलर आईएस की कैद में मारी गई चौथी अमेरिकी नागरिक हैं. उनसे पहले आईएस तीन अमेरिकी पत्रकारों की हत्या कर चुका है.

कायला के रिश्तेदार और दोस्त स्तब्ध हैं. एरीजोना प्रांत के कस्बे प्रेसकॉट की रहने वाली कायला ने कैद में रहते हुए कई खत लिखे. एक में उन्होंने लिखा, "मैं यह देखने लगी हूं कि हर परिस्थिति में कुछ न कुछ अच्छा होता है, कभी कभी आपको बस इसे देखना होता है."

मुलर युद्ध की मार झेल रहे सीरिया में आम लोगों की परेशानी से विचलित थीं. अमेरिका में किशोरावस्था से ही मानवीय कार्यों में जुटने वाली कायला सीरियाई शरणार्थियों की मदद करना चाहती थीं. अगवा होने से पहले अपने ब्लॉग में उन्होंने लिखा था, "हर इंसान को हरकत में आना चाहिए. उन्हें इस हिंसा को रोकना चाहिए."

ओएसजे/आईबी (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री