1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कानून रोकेगा फिक्सिंग

विश्व क्रिकेट में पहली बार फिक्सिंग का मामला भारत में ही दिल्ली पुलिस ने उजागर किया था लेकिन देश में इस पर नकेल का कानून नहीं है. आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग का ताजा विवाद आने के बाद कानून बनाने की चर्चा हो रही है.

अगर सब कुछ ठीक ठाक चला तो संसद के अगले सत्र में फिक्सिंग रोकने के लिए कानून का प्रस्ताव पेश किया जा सकता है. कानून मंत्री कपिल सिब्बल ने इस मामले में वरिष्ठ अधिकारियों से राय मशविरा किया है. खेल सचिव पीके देब ने बताया, "हम लोग देख रहे हैं कि इस गैरकानूनी सट्टेबाजी पर किस तरह नियंत्रण किया जा सकता है."

देब ने कहा, "हम ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया से भी बात कर रहे हैं कि उन्होंने किस तरह इस पर काबू पाया है. हमें जो सूचनाएं मिल रही हैं, हम उसे कानून मंत्रालय से साथ साझा करेंगे. हालांकि हम अभी भी कानून से थोड़ी दूरी पर हैं." भारत में सिर्फ घुड़दौड़ पर सट्टेबाजी की जा सकती है, जबकि दूसरे खेलों में पैसों पर शर्त लगाना गैरकानूनी है. भारतीय मीडिया का दावा है कि फिर भी क्रिकेट के लीग मुकाबले आईपीएल पर हर साल सट्टा लगता है. अनुमान लगाया गया कि 2009 में इस पर करीब 43 करोड़ डॉलर की सट्टेबाजी हुई.

पिछले हफ्ते भारत के लिए 27 टेस्ट मैच खेल चुके गेंदबाज श्रीसंत सहित तीन क्रिकेटरों को स्पॉट फिक्सिंग के मामले में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उनके साथ 10 से ज्यादा सट्टेबाज भी गिरफ्तार किए गए हैं. दिल्ली पुलिस का दावा है कि फिक्सिंग के इस काले खेल में कई और खिलाड़ी शामिल हो सकते हैं.

सिब्बल इस मुद्दे पर पहले ही गंभीर राय दे चुके हैं, "हमें फिक्सिंग रोकने के लिए कानून की जरूरत होगी. मुझे नहीं लगता है कि भारतीय दंड संहिता में फिक्सिंग को लेकर कोई कानून है और धोखाधड़ी वाला कानून (420) फिक्सिंग के लिए पर्याप्त नहीं है. मैंने अपने मंत्रालय से कहा है कि वह इस कानून पर काम करे. एक बार इसका खाका तैयार हो जाए, तो मैं इसे खेल मंत्रालय को सौंपूंगा. इसके बाद इसे सदन में पेश किया जा सकता है."

Indien Kricket Rajasthan Royals Team

क्रिकेट पर फिक्सिंग का साया

भारत में साल 2000 में मैच फिक्सिंग का भंडाफोड़ हुआ था, जब दिल्ली पुलिस ने भारतीय और दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों को इसमें शामिल पाया. इसके बाद मैच फिक्सिंग की बातें तो दबने लगीं लेकिन पिछले कुछ साल से स्पॉट फिक्सिंग का दानव निकल आया. ताजा मामले के बाद दिल्ली पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार का कहना है कि फिक्सिंग का तंत्र इस बार भी बहुत बड़ा दिख रहा है, "अभी कहना जल्दबाजी होगा लेकिन दूसरी टीमें भी इसमें शामिल हो सकती हैं."

मैच फिक्सिंग में जहां मैच के नतीजे ही पहले तय कर लिए जाते हैं, वहीं स्पॉट फिक्सिंग में गेंदबाज या बल्लेबाज को सेट किया जाता है कि वह फलां ओवर में कम से कम कितने रन देगा या बल्लेबाज कितने रन जुटाएगा. इसमें टीम के ज्यादा खिलाड़ियों के शामिल होने की जरूरत नहीं होती और सट्टेबाज सीधे एक खिलाड़ी के साथ डील कर लेते हैं.

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रीय क्रिकेट कप्तान सलमान बट और दो दूसरे खिलाड़ियों को 2011 में इंग्लैंड में स्पॉट फिक्सिंग का दोषी पाया गया और तीनों को जेल की सजा काटनी पड़ी. उन्हें आईसीसी ने भी कम से कम पांच साल के लिए प्रतिबंधित कर रखा है.

एजेए/एनआर (पीटीआई, एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links