1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कानकुन के मसौदे पर भारत बेहद खुश

भारत ने कहा है कि कानकुन में पर्यावरण समझौते के जो दो मसौदे तैयार किए गए हैं उनसे बेसिक देश बहुत खुश हैं. भारत के पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने कहा कि भारत को तो यह समझौता मंजूर है.

default

जयराम रमेश

पर्यावरण में हो रहे बदलावों से लड़ने के लिए क्योटो प्रोटोकॉल पर 200 देशों के वार्ताकारों ने बातचीत के बाद ये दो मसौदे तैयार किए हैं. इन्हें सभी देशों को दे दिया गया लेकिन अभी तक कोई औपचारिक समझौता नहीं हुआ है. भारतीय प्रतिनिधि जयराम रमेश के मुताबिक बेसिक देश या जी4 (ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, भारत और चीन) मसौदे से खुश हैं. उत्साहित रमेश ने कहा, "कानकुन समझौता तैयार है."

Klimagipfel Cancun

पिछले दो हफ्ते से जारी कानकुन सम्मेलन पर विफलता की आशंकाएं मंडरा रही थीं क्योंकि जापान और रूस ने कहा कि वे किसी भी सूरत में क्योटो प्रोटोकॉल का दूसरा दौर स्वीकार नहीं करेंगे. अब तक क्योटो प्रोटोकॉल ही एकमात्र अंतरराष्ट्रीय समझौता है जिसमें विकसित देशों पर उत्सर्जन की पाबंदियां लगाई गई हैं.

सम्मेलन के आखिरी कुछ दिनों में वार्ताकारों ने ऐसा मसौदा तैयार करने पर मशक्कत की जिसमें सभी देशों की इच्छाओं को शामिल किया जा सके. क्योटो प्रोटोकॉल का वक्त 2012 में खत्म हो रहा है. इसके मुताबिक औद्योगिक देशों को ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन का स्तर 1990 के स्तर से पांच फीसदी तक घटाना है. वार्ताकारों की कोशिश है कि 2012 में क्योटो प्रोटोकॉल के खत्म होने के साथ ही अगला समझौता शुरू हो जाए और दोनों के बीच फासला न रहे. तैयार किए गए मसौदों में इसी बात पर जोर दिया गया है.

हालांकि अलग अलग पक्षों ने इस मसौदे की अलग व्याख्या की है. कुछ जानकार तो इसे इतना कमजोर मानते हैं कि यह क्योटो प्रोटोकॉल की मौत की वजह भी बन सकता है. हालांकि ऐसा मानने वाले भी कम नहीं हैं कि यह एक ऐसा समझौता है जिस पर ज्यादातर देशों को राजी किया जा सकता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

संबंधित सामग्री