1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कहीं फोन पर तलाक तो कहीं ऐड देकर, मोदी से मदद की गुहार

भारत में व्हाट्सऐप, स्पीडपोस्ट और फोनकॉल के बाद अब अखबार में इश्तिहार के जरिए तलाक देने का मामला सामने आया है. तीन तलाक से जुड़े मामलों में महिलाएं सीधे प्रधानमंत्री से गुहार लगा रही हैं.

एक तरफ सुप्रीम कोर्ट में ट्रिपल तलाक से जुड़ी याचिका पर सुनवाई होनी है, तो दूसरी तरफ ऐसे मामले लगातार सामने आ रहे हैं. भागलपुर की एक महिला ने मदद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुहार लगाई है. टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर मुताबिक बिहार की इस महिला को उसके पति ने पिछले महीने फोन पर तलाक दे दिया था. भागलपुर जिले के खुजबाना गांव में अब्दुल खालिद की बेटी बीबी रुकशार की शादी साल 2010 में मोहम्मद शाह आलम से हुई थी. रुकशार ने बताया कि अचानक 27 मार्च को उसके पति का फोन आता है और वह फोन पर तीन बार तलाक कह देता है. रुकशार ने कहा, "शादी के वक्त, मेरे पिता ने मेरे ससुराल वालों की सारी मांगें पूरा की थीं लेकिन इसके बावजूद वे मुझे पैसे और तोहफों के लिए परेशान करते रहे. उस वक्त गांव के बड़े-बुजुर्गों ने मामले को निपटाते हुये मेरे ससुराल वालों के साथ सुलह करवाई थी." रुकशार के पति ने उसे आखिरी फोन दादर और नगर हवेली से किया था जहां वह एक निजी कंपनी में काम करता है. रुकशार का एक 3 साल का बेटा है. रुकशार ने इस बीच काफी लोगों से मुलाकात की और अब वह बस अपने और अपने बच्चे के अधिकारों के लिये लड़ रही है.

रुकशार को लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी जब उनकी कहानी सुनेंगे तो जरूर मदद करेंगे. उसने कहा, "हम जानते हैं कि प्रधानमंत्री हमारे मसले को समझेंगे इसलिये तो मुस्लिम महिलाओं ने उन्हें वोट दिया था." हालांकि रुकशार ने ट्रिपल तलाक जैसे मसले को कई एनजीओ से जानकारी जुटा कर समझ लिया है. प्रशासन की ओर से यही कहा गया है कि कानूनी दायरे में रहकर जो भी संभव होगा उसके लिये किया जायेगा.

वहीं एक अन्य मामले में सऊदी अरब में काम करने वाले पति ने अपनी पत्नी को अखबार में इश्तिहार के जरिये तलाक दिया है. एनडीटीवी की रिपोर्ट मुताबिक सऊदी अरब में काम करने वाले एक बैंकर पति ने हैदराबाद में रहने वाली अपनी 25 वर्षीय पत्नी से इश्तिहार के जरिये तलाक ले लिया. मोहम्मद मुश्ताकुद्दीन नाम के इस बैंकर के खिलाफ अब हैदराबाद पुलिस ने प्रताड़ना और धोखेबाज़ी का मामला दर्ज किया है.

महिला ने पुलिस को बताया कि चार मार्च को एक स्थानीय ऊर्दू अखबार में तलाक का इश्तिहार देखकर वह हैरान रह गई और इसके बाद उसके पति के वकील का फोन आया. मोहम्मद मुश्ताकुद्दीन की शादी 2015 में हुई थी और शादी के 5 महीने बाद वह अपनी पत्नी के साथ सऊदी चले गया था. इन दोनों की 10 महीने की बेटी भी है लेकिन दो महीने पहले लौटे इन पति-पत्नी में झगड़ा हुआ और पत्नी झगड़े के बाद अपनी बच्ची के साथ मायके आ गई. इस घटना के तीन हफ्ते मुश्ताक़ुद्दीन बिना सूचना दिये सऊदी लौट गया.

इससे पहले हैदाराबाद में ही एक व्यक्ति ने व्हाट्सएप के जरिये पत्नी को तलाक, तलाक, तलाक का संदेश भेज दिया था. एक अन्य मामले में पति ने पत्नी को तीन तलाक लिखकर पोस्टकार्ड भेजा था. सुप्रीम कोर्ट अगले महीने से ट्रिपल तलाक पर दायर याचिका की सुनवाई करेगी.

एए

DW.COM