1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कहां जाएंगे अलेप्पो से निकाले गए लोग

पूर्वी अलेप्पो के विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके से लोगों को निकाले जाने की प्रक्रिया शुक्रवार को रोक दी गई. निकाले गए करीब 8,000 लोगों के लिए पड़ोसी देश तुर्की अपनी सीमा के पास शरणार्थी कैंप लगाएगा.

गुरुवार से पूर्वी अलेप्पो के विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके से करीब 8,000 लोगों को बाहर निकाला जा चुका है. इनमें विद्रोही लड़ाके और आम नागरिक दोनों शामिल हैं. यह निकासी रूस और तुर्की की अगुआई में हुए समझौते के तहत करायी गई है. इसी के साथ सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद की सीरियाई सेना का लगभग पूरे अलेप्पो पर कब्जा हो गया है.

सीरिया की सीमा के भीतर ही दो ऐसी जगहों की पहचान की गई है जहां करीब 80,000 लोगों के रहने की व्यवस्था की जाएगी. तुर्की के वरिष्ठ अधिकारियों ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बात करते हुए इसकी पुष्टि की है. तुर्की के एक सहायता संगठन आईएचएच के अधिकारी ने बताया, "बहुत जल्द ही कैंप के इस ढांचे को खड़ा करने का काम शुरू होने वाला है." इस कैंप की स्थापना तुर्की की रेड क्रेसेंट, आपदा प्रबंधन एजेंसी एएफएडी और आईएचएच संयुक्त रूप से करेगी.

आईएचएच के अधिकारी ने बताया कि अलेप्पो से निकाले गए ज्यादातर लोगों को अब तक सीरिया के इदलिब प्रांत में रहने वाले उनके रिश्तेदारों और जानकारों के पास शरण मिली है. अभी भी ऐसे लोगों की पहचान की जा रही है जिनके पास कहीं और जाने का कोई दूसरा ठिकाना नहीं है.

तुर्की के अस्पतालों में अलेप्पो से निकाले गए करीब 55 घायल और बीमार लोग रखे गए हैं. तुर्की स्वास्थ्य मंत्रालय के इमरजेंसी रिस्पॉन्स डिवीजन के प्रमुख हसन आयदिनलिक ने पत्रकारों को बताया इनमें से एक की अस्पताल में पहुंच कर मौत हो गई जबकि तीन लोग गंभीर अवस्था में हैं. तुर्की में पहले से ही करीब 27 लाख सीरियाई शरणार्थी रह रहे हैं. जापान में पत्रकारों से बातचीत में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि वे तुर्की राष्ट्रपति के साथ सीरिया शांति वार्ता की नई श्रृंखला शुरु करने वाले हैं. इसका लक्ष्य पूरे सीरिया में युद्धविराम की स्थापना होगा.

2011 से जारी गृहयुद्ध में अलेप्पो सीरियाई सरकार और विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके में बंटा हुआ था. लेकिन बीते एक महीने में रूस जैसे शक्तिशाली सहयोगी की मदद से सीरियाई सरकार ने अलेप्पो में बहुत तेजी से अपनी बढ़त बना ली और विद्रोहियों से इलाके को खाली करा लिया.

शुक्रवार को अचानक सहायता एजेंसियों और लोगों को लेने पहुंची बसों को वापस लौटाया जाने लगा. सीरियाई सरकार की ओर से आई जानकारी के अनुसार एक क्रॉसिंग प्वाइंट के पास अलेप्पो से लोगों को निकाल कर ले जा रहे काफिले पर विद्रोहियों के गोलीबारी करने के कारण निकासी को रोकने का आदेश आया. अभी तक साफ नहीं हो सका है कि यह रोक कब तक चलेगी. पूर्वी अलेप्पो से सभी लोगों को निकाले जाने में अभी कई दिन लग सकते हैं.  

सीरिया में विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रतिनिधि एलिजाबेथ हॉफ ने पश्चिमी अलेप्पो से जेनेवा मुख्यालय को बताया, "मुझे मिली जानकारी के अनुसार (ऑपरेशन को रोकने का) आदेश रूस की ओर से आया, जो कि यहां कि स्थिति की निगरानी कर रहे हैं."

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 194 मरीजों को पश्चिमी अलेप्पो के पहले से ही भरे हुए अस्पतालों में पहुंचाया गया. बाकी को इदलिब और तुरकी भेजा गया. हॉफ ने बताया कि युद्ध की चपेट में आने से घायल हुए लोगों को ज्यादातर मस्तिष्क में आघात और आंखों की चोट की शिकायत है जबकि कई लोग डायबिटीज जैसे बीमारियों से ग्रसित पाए गए हैं.

आरपी/ओएसजे (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री