1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

"कसाब को सजा से भारत पाक रिश्ते पर असर नहीं"

पाकिस्तान का कहना है कि मुंबई के आतंकवादी हमलों के दोषी आमिर अजमल कसाब को फांसी की सजा देने से भारत के साथ प्रस्तावित बातचीत पर कोई असर नहीं पड़ेगा. दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक होने वाली है.

default

कसब को मिली मौत की सजा

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि कसाब को सजा सुनाए जाने के मामले पर पाकिस्तान अपनी प्रतिक्रिया फैसले पर विस्तृत नजर डालने और विशेषज्ञों से बातचीत के बाद देगा. उन्होंने कहा कि इससे दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की प्रस्तावित बातचीत पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

कुरैशी ने बताया कि वह शीघ्र ही भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के साथ अपनी बातचीत की तारीख तय कर लेंगे. उन्होंने मुंबई के आतंकवादी हमले को एक बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना बताई और कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए था. कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान भी आतंकवाद का शिकार है और जिन लोगों ने आतंकी हमलों में अपनों को खोया है, वे मुंबई की घटना की भयावहता समझ सकते हैं.

मुंबई में नवंबर 2008 के आतंकवादी हमले के बाद अजमल कसाब को जिन्दा पकड़ लिया गया था. उसके पाकिस्तानी नागरिक होने की बहुत पहले ही पुष्टि हो चुकी है. मुकदमे के बाद हाल ही में मुंबई की एक विशेष अदालत ने उसे मौत की सजा सुनाई है. भारत का आरोप है कि तीन दिन तक चले इस हमले की साजिश पाकिस्तान में रची गई. इस आतंकी हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी.

Pakistans Aussenminister Shah Mahmood Qureshi

पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने माना कि पिछले छह दशक से भारत और पाकिस्तान के बीच अविश्वास का माहौल है लेकिन अब आगे बढ़ कर इसे दुरुस्त करने की जरूरत है. भूटान में पिछले दिनों सार्क सम्मेलन के दौरान जब भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी मिले, तभी दोनों देशों ने रुकी हुई बातचीत शुरू करने की बात कही थी.

दोनों प्रधानमंत्रियों ने अपने अपने विदेश मंत्रियों से कहा कि वे बातचीत का खाका तैयार करें. इस सिलसिले में पूछे जाने पर कुरैशी ने कहा कि दोनों ही देश आपस में बातचीत के लिए राजी हैं और वे जल्द ही इस मामले में भारत के विदेश मंत्री से संपर्क करेंगे. उन्होंने कहा कि दोनों देश परमाणु हथियारों से संपन्न हैं और मुद्दे को सुलझाने के लिए जंग कोई विकल्प नहीं हो सकता, इसलिए हमें बातचीत का रास्ता ही तलाशना होगा.

अमेरिका में पाकिस्तानी मूल के संदिग्ध आतंकवादी फैसल शहजाद की गिरफ्तारी के बारे में पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने कहा कि यह एक बेहद गंभीर मामला है और इसकी अभी जांच चल रही है. कुरैशी ने कहा कि अभी इस मुद्दे पर चर्चा से बचना चाहिए. उन्होंने कहा, "हम पाकिस्तान या कहीं और आतंकवाद के खिलाफ हैं. इसकी भर्त्सना करते हैं. आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में पाकिस्तान अमेरिका का साथी है."

रिपोर्टः पीटीआई/ए जमाल

संबंधित सामग्री