1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कश्मीर पर पाक संसद के प्रस्ताव से नाराज भारत

पाकिस्तान की संसद में जम्मू-कश्मीर के बारे में प्रस्ताव पास किए जाने पर भारत ने कड़ी नाराजगी जताई है. भारत ने कहा है कि पाकिस्तान की संसद को यह कतई हक नहीं है कि वह भारत के अंदरूनी मामले में दखल दे.

default

घाटी की सड़कों पर सन्नाटा

भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि जम्मू कश्मीर के जिस हिस्से पर पाकिस्तान ने "गैरकानूनी रूप से" कब्जा कर रखा है, उसे वहां मानवाधिकारों की रक्षा, संवैधानिक सुरक्षा उपाय, लोकतंत्र की मजबूती के साथ ही चरमपंथ और आंतकवाद से निपटने पर ध्यान देना चाहिए. कश्मीर घाटी में तीन महीनों से जारी भारत विरोधी प्रदर्शनों के दौरान सुरक्षा बलों की गोली से 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं.

Pakistanisches Parlament

पाकिस्तान की संसद ने पास किया प्रस्ताव

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विष्णु प्रकाश ने कहा, "ऐसी खबरें मिली हैं कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली और सीनेट में जम्मू कश्मीर पर प्रस्ताव पास किया गया है. हम इस प्रस्ताव को खारिज करते हैं." विष्णु प्रकाश ने साफ कहा कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली और सीनेट को भारत के अंदरूनी मामले में बोलने का कोई हक नहीं है.

पाकिस्तान की संसद में एक दिन पहले पास किए गए प्रस्ताव में भारत प्रशासित कश्मीर में चल रहे विरोध प्रदर्शनों का समर्थन किया गया है और कश्मीरी जनता के खिलाफ हिंसा की निंदा की गई है. इस प्रस्ताव में अतंरराष्ट्रीय बिरादरी से अपना ध्यान जम्मू कश्मीर में स्थानीय लोगों पर हो रही कथित ज्यादतियों की तरफ ले जाने की अपील की गई है और संयुक्त राष्ट्र से इस प्रस्ताव को लागू करने का आग्रह किया गया है.

इसके जवाब में विष्णु प्रकाश ने कहा है, "भारत सभी मुद्दों को बातचीत के जरिए सुलझाने में यकीन रखता है. पाकिस्तान को अपना वादा पूरा करना चाहिए और अपनी जमीन का इस्तेमाल किसी भी हाल में भारत के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियो के लिए नहीं होने देना चाहिए." विष्णु प्रकाश ने कहा कि भारत पाकिस्तान समेत अपने सभी पड़ोसियों के साथ अच्छे रिश्ते चाहता और पाकिस्तान को भी ऐसी ही कोशिश करनी चाहिए.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links