1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कश्मीर पर तीसरे पक्ष का सवाल ही नहीं उठता: भारत

कश्मीर मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक पक्ष बनाने की पाकिस्तान की कोशिशों को खारिज करते हुए भारत ने कहा है कि कश्मीर के मुद्दे पर किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता स्वीकार नहीं की जाएगी और इसका सवाल ही पैदा नहीं होता.

default

पाकिस्तान के विदेश मंत्री एसएम कुरैशी ने अमेरिका से कश्मीर मामले में दखल देने की अपील की थी. इसका जवाब देते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने कहा, "तीसरे पक्ष या अंतरराष्ट्रीय दखल के लिए कोई जगह नहीं है. यह बात कई बार और संयुक्त राष्ट्र समेत कई मंचों पर साफ की जा चुकी है. इस बारे में लोग अपनी इच्छाएं जाहिर कर सकते हैं लेकिन उनका कोई मतलब नहीं है."

कुरैशी ने मंगलवार को अमेरिका में कहा, "अमेरिका मध्यपूर्व में शांति स्थापित करने की भरसक कोशिशें कर रहा है. हम खासतौर पर उससे कहना चाहते हैं कि वह कश्मीर में भी अपना राजनीतिक निवेश करे."

पाकिस्तान के इस बयान को खारिज करते हुए भारतीय सूत्रों ने कहा कि इस मुद्दे पर भारत का रुख पहले ही पूरी तरह साफ है और इसके दोस्तों और वार्ताकारों को अच्छी तरह मालूम है. एक अधिकारी ने कहा, "हमारे जेहन में इस बात को लेकर पूरी तरह स्पष्टता है कि जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और अगर इसे लेकर कुछ मुद्दे हैं तो वे गुजरे वक्त में पैदा हुए और उन्हें दोनों पक्षों के बीच बातचीत के जरिए हल किया जा सकता है. पहले भी इन मुद्दों पर हम पाकिस्तान से बातचीत करते रहे हैं."

पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कश्मीर मुद्दे को उठाने की कोशिशों को लेकर उन्होंने कहा कि इसमें हैरत की कोई बात नहीं है. भारत जैसे लोकतांत्रिक देश के पास इस मुद्दे से निबटने के लिए जरूरी तौर तरीके और संवैधानिक उपाय मौजूद हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री