1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कश्मीरियों पर जुल्मों की जांच होः गिलानी

कश्मीर के प्रमुख अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने अंतरारष्ट्रीय बिरादरी से कथित मानवाधिकार के उल्लंघन की जांच कराने की मांग की है. विकीलीक्स पर जारी दस्तावेजों के मुताबिक जेल में कैदियों से बुरा सलूक हुआ है.

default

अलगाववादी संगठन हुर्रियत के कट्टरपंथी धड़े के नेता सैयद अली शाह गिलानी ने अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से अपनी टीम भारत प्रशासित कश्मीर में भेजने की अपील की है. गिलानी ने कहा,"हम एमनेस्टी इंटरनेशनल, एशिया वॉच और दूसरे प्रभावशाली संगठनों से अपील करते है कि वो अपनी टीम कश्मीर की जेलों में कैदियों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार की जांच के लिए भेजें." गिलानी ने सालों से इस मसले पर दुनिया की चुप्पी पर हैरानी भी जताई.

BdT Protest Indien Kaschmir

विकीलीक्स ने इस हफ्ते जो अमेरिकी केबल जारी किए हैं उनके मुताबिक अंतरराष्ट्रीय संगठन रेड क्रॉस के अमेरिकी राजनयिकों को कथित रूप से कश्मीर के जेलों में यातना दिए जाने की बात कहने का जिक्र है. गिलानी ने शनिवार को आरोप लगाया कि गिरफ्तार कश्मीरी युवाओं को जेल में यातना दी जा रही है. कट्टरपंथी अलगाववादी नेता प्रदेश के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला पर भी जम कर बरसे और कहा कि उनका बयान सफेद 'झूठ साबित' हुआ है. गिलानी ने कहा, "उमर अब्दुल्ला के शासनकाल में ना सिर्फ हजारों युवाओं को यातना दी गई बल्कि इन यातनाओं के कारण कई युवाओं की मौत भी हो गई.

उमर अब्दुल्ला ने शुक्रवार को दस्तावेजों के सामने आने के बाद खुद को इनसे अलग करते हुए कहा,"मैं इस मामले में नहीं पड़ना चाहता पर एक सच्चाई जरूरत बताना चाहूंगा कि ये दस्तावेज 2005 के हैं और आप खुद जोड़ कर देख सकते हैं कि उस वक्त कश्मीर की सत्ता किसके हाथ में थी."साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा," जहां तक सरकार का सवाल है हम यातनाओं की अनदेखी नहीं करते न हमने पहले कभी किया है और न आगे कभी करेंगे."

उधर दस्तावेजों के सामने आने के बाद हुर्रियत के उदारवादी धड़े के नेता मीरवाइज उमर फारुक ने आरोप लगाया है कि यातना देने को कश्मीर में सरकारी नीति के बढ़ावा दी जा रही है. समचार एजेंसी पीटीआई से बातचीत में मीरवाइज ने कहा,"हम बहुत पहले से कहते आ रहे हैं कि कश्मीर में मानवाधिकारों की स्थिति बेहद खराब है. इन दस्तावेजों ने अमेरिका की दोमुंही नीति भी सामने ला दी है जो सबकुछ जानते हुए भी चुप रहने की नीति पर चल रहे हैं."

हुर्रियत का कहना है कि जम्मू कश्मीर में सत्ता पर आने वाली कोई सरकार जिम्मेदार नहीं है. जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के अध्यक्ष यासीन मलिक ने कहा है कि यातना देना कश्मीर में एक पुराना तरीका है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links