1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कश्मीरः मतभेदों के बावजूद शिष्टमंडल ने सुने दुख दर्द

घाटी के दौरे पर गए केंद्रीय सर्वदलीय शिष्टमंडल में पैदा मतभेदों के बावजूद सांसद राज्य के अलग अलग समूहों से मिले और उनका दुख दर्द सुना. इस बीच 10 दिन के बाद मंगलवार को घाटी में कर्फ्यू में ढील दी गई.

default

कश्मीर के हालात से दुखी हैं आम लोग

मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी ने अलगाववादी नेताओं से मुलाकात पर आपत्ति जताई है. सर्वदलीय शिष्टमंडल में शामिल विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा है कि जिन सांसदों ने सैयद अली शाह गिलानी समेत अन्य अलगाववादी नेताओं से मुलाकात की, उन्होंने व्यक्तिगत रूप से यह कदम उठाया है.

Sushma Swaraj, Politikerin

अलगाववादियों से मुलाकात पर बिफरीं सुषमा

शिष्टमंडल को ऐसा करने का जनादेश नहीं मिला है. स्वराज और उनकी पार्टी के अरुण जेटली उस समूह का हिस्सा नहीं थे जो सोमवार को गिलानी के अलावा मीरवाइज उमर फारूक और यासीन मलिक जैसे नेताओं से उनके घर पर जा कर मिला.

उधर गृह मंत्री पी चिदंबरम के नेतृत्व में 36 सांसदों वाले इस सर्वदलीय शिष्टमंडल के तीन सदस्यों ने एक दूसरे अलगाववादी नेता शब्बीर शाह से मुलाकात की है. जम्मू के एक अस्पताल में भर्ती शाह ने लगातार जारी रहने वाली बातचीत शुरू करने और घाटी में युवाओं की हत्याओं और गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग की है.

उधर हुर्रियत के कट्टरपंथी धड़े के नेता गिलानी से मुलाकात करने गए सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी ने माना है कि सांसदों के समूह ने खुद गिलानी के घर पर जाकर उनसे मिलने का फैसला किया लेकिन जब यह बात आई तो बीजेपी ने इसका विरोध नहीं किया. येचुरी मंगलवार को पांच सदस्यों वाली एक टीम के साथ विस्थापित कश्मीरी पंडितों के तीन शिविरों में भी गए और उनके दुख दर्द, परेशानियां, उम्मीदें और आकांक्षाएं जानीं.

कश्मीरी पंडितों के चार संगठनों पनुन कश्मीर, ऑल पार्टी माइग्रेंट कोओर्डिनेशन कमेटी, जम्मू कश्मीर विचार मंच और पनुन कश्मीर अग्निशेखर ने सांसदों के शिष्टमंडल का बहिष्कार

Ausgangssperre

संगीन के साए में घाटी की जिंदगी

किया. कुछ पंडितों ने विरोध में धरना भी दिया और लगभग 90 लोगों को हिरासत में भी रखा गया. कश्मीरी पंडित चाहते हैं कि उन्हें फिर से घाटी में बसाया जाए और प्रधानमंत्री पुनर्वास पैकेज भी दिया जाए. वे कश्मीर को व्यापक स्वायत्तता और वहां से सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून को हटाने का विरोध भी करते हैं.

इस बीच, मंगलवार को घाटी में 10 दिनों के बाद कर्फ्यू में ढील दी गई. इसके बाद बड़ी संख्या में लोग घरों से बाहर निकले और उन्होंने रोजमर्रा की जरूरत की चीजें खरीदीं. हालांकि बाजारों में ज्यादातर दुकानें बंद ही रहीं और सड़कों पर सार्वजनिक परिवहन भी न के बराबर ही दिखा. लेकिन निजी गाड़ियां सड़कों पर दौड़ती देखी गईं. अधिकारियों का कहना है कि मंगलवार को अनंतनाग और बारामूला में पथराव की छिटपुट घटनाओं को छोड़ दें तो हिंसा की कोई बड़ी घटना नहीं हुई.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links