1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

कल्पना में खाओ सच में वजन घटाओ

आपके मन में चॉकलेट खाने का विचार आया, आपने सोचा, मैंने चॉकलेट खाई है. पहले कहा जाता था कि खाने का विचार आपको मोटा करता है लेकिन अब पता चला कि खाने के बारे में सोचने से आप मोटे नहीं दुबले होते हैं. कैसे?

default

अमेरिका की कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी में शोधकर्ताओं का कहना है कि जब लोग किसी खास खाने के बारे में पूछते हैं तो उन्हें भूख नहीं लगती बल्कि इस खाने के बारे में उनकी चाहत कम हो जाती है.

साइंस नाम की पत्रिका में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि यह विचार कि हैम्बर्गर के बारे में सोचना भूख बढ़ाता है यह गलत है. कई पत्र पत्रिकाओं में यह भी कहा जाता है कि किसी खाने के बारे में सोचने से उसे खाने का मन करता है.

Pizza FLash-Galerie

अधिकतर वैज्ञानिकों का भी यही मानना है कि खाने के बारे में सोचना शरीर में वही सब क्रिया करता है जो खाते समय, उसे सूंघते समय या देखते समय होती हैं. लेकिन नई शोध को प्रस्तुत करने वाले कैरी मोरवेज मानते हैं कि जितना ज्यादा इन्सान खाने के बारे में सोचता है उतना कम उसे खाने की इच्छा होती है.

नोरवेज ने बताया कि सबूत इस ओर इशारा करते हैं कि जब कोई भी व्यक्ति अपनी पसंद का खाना खाने की कल्पना करता है और कल्पना को वह पूरी तरह से अनुभव करता है, तब उसे उस खाने की कम इच्छा होगी.

खाने के बारे में सोचना, कि उसका स्वाद कैसा होगा, कैसी खुशबू होगी और वह कैसा दिखेगा. यह सब सोच कर निश्चित ही हमारी भूख बढ़ती है लेकिन जब हम यह सोचने लगते हैं कि मैं अपनी पसंद का खाना खा रहा हूं, तो इसकी इच्छा कम हो जाती है.

Kinder schmutzig beim Spaghetti essen

अमेरिकी राज्य पेनसिल्वेनिया के पिट्सबर्ग में समाज और निर्णय विज्ञान (सोशल एंड डिसिजन साइंसेस) के असिस्टेंट प्रोफेसर मोरवेज ने सहयोगियों के साथ मिलकर एक प्रयोग किया. इसमें उन्होंने एक ग्रुप को कहा गया वह कल्पना करें कि वह 33 सिक्के एक एक करके वॉशिंग मशीन में डाल रहे हैं. दूसरे ग्रुप को कहा गया कि वह कल्पना करे कि वह 30 सिक्के वॉशिंग मशीन में डाल रहे हैं और तीन एम एंड एम कैंडी एक एक करके खा रहे हैं. जबकि तीसरे ग्रुप को कहा गया कि वह कल्पना करे कि उन्होंने तीन सिक्के वॉशिंग मशीन में डाले और एक एक करके 30 कैंडी खाईं.

इसके बाद तीनों ग्रुप्स को कैंडी से भरा हुआ एक बाउल दिया गया. तो उस ग्रुप के लोगों ने सबसे कम कैंडी खाई जिन्हें 30 कैंडी खाने की कल्पना करने को कहा गया था. रिसर्च टीम के

Himmelstorte

योआखिम वोसगेरो ने बताया, "हमारे शोध में पता चलता है कि आदतें देखने, सूंघने, आवाज और स्पर्श से ही नहीं संचालित होतीं बल्कि इससे भी कि उपभोग का अनुभव कैसे लिया गया है."

वोसगेरो का कहना है कि कई बार किसी चीज के अनुभव की कल्पना करना सच में अनुभव करने जैसा ही होता है. यही नहीं अब तक की धारणा के विपरीत किसी बारे में सोचने और उसे सच में पाने के बीच अंतर भी बहुत कम होता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links