1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

वर्ल्ड कप

कलमाड़ी बोले, मैं हूं जिम्मेदार

कॉमनवेल्थ खेलों की तैयारियों को लेकर काफी समय से हंगामा हो रहा है, लेकिन आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी ने पहली बार अपनी जिम्मेदारी मानी है. उन्होंने तैयारियां पूरा न होने की नैतिक जिम्मेदारी ली.

default

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कलमाड़ी ने कहा, "मैं आयोजन समिति का अध्यक्ष हूं और मैं सारी जिम्मेदारी लेता हूं. हालांकि कोई मसला है नहीं लेकिन हमें सारी जगहें कुछ पहले मिल जातीं तो अच्छा रहता."

कलमाड़ी ने साफ सफाई के बारे में समिति के महासचिव ललित भनोट की टिप्पणियों को भी गैरजरूरी बताया.

उधर कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन के प्रमुख माइक फेनेल को अब उम्मीद बंध गई है कि सारा काम पूरा हो जाएगा. फेनेल ने शुक्रवार को खेलगांव और अन्य जगहों का दौरा किया. शनिवार को उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पिछले कुछ दिनों में काफी काम हुआ है और चीजें काफी हद तक ठीक हो गई हैं. हालांकि उन्होंने माना कि अभी भी काम पूरा नहीं हुआ है और इसे करने के लिए काम की गति को बनाए रखना होगा.

एक घंटे तक चली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय और विदेशी पत्रकारों ने फेनेल पर सवालों की बरसात की. वे जानना चाहते थे कि कॉमनवेल्थ खेलों की तैयारियों की इस हालत के लिए जिम्मेदार कौन है. लेकिन इसके जवाब में फेनेल ने कहा कि एक दूसरे पर तोहमतें मढ़ने का वक्त अब खत्म हो चुका है. कॉमनवेल्थ खेल आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी और अन्य अधिकारियों के साथ आए फेनेल ने कहा, "यह इल्जाम हम सब पर है और सबको अपनी अपनी जिम्मेदारी लेनी होगी. खेल कोई भी हों, उनकी तैयारियों में बहुत सारे लोग लगे होते हैं. हम सबको मिलकर अब यही कोशिश करनी है कि खेल अच्छे से हो जाएं."

तैयारियों से संतुष्ट दिखे फेनेल ने कहा, "हम अच्छे खेल देखने जा रहे हैं. सबसे बड़े कॉमनवेल्थ देश भारत का काफी नुकसान हो चुका है. इससे सबक सीखने होंगे. यह सीखने की प्रक्रिया ही है. मुझे उम्मीद है कि भारत सबक सीख चुका है. हम सब सबक सीख चुके हैं."

जब फेनेल से पत्रकारों ने पूछा कि क्या भारत ने उन्हें निराश किया है, तो उन्होंने कहा, "मुझे बहुत सी चीजों ने निराश किया है."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links