1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कलमाड़ी ने ऑस्ट्रेलिया के पैसे नहीं चुकाए

कॉमनवेल्थ खेलों को लेकर ऑस्ट्रेलियाई कंपनियां भारतीय अधिकारियों पर मुकदमा करने की तैयारी में. आरोप हैं कि भारत ने अभी तक खेल आयोजन से जुड़ा पैसा नहीं चुकाया है. ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी की कंपनियां भी नाराज़.

default

कलमाड़ी-फिर फंसे

ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गए भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री केविन रड से बातचीत की. कृष्णा ने भरोसा दिलाया कि भारत ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों के पैसे चुका देगा. गुरुवार को रड और कृष्णा की मुलाकात के दौरान यह मुद्दा उठा. भारतीय विदेश मंत्री ने आश्वासन दिया कि दिल्ली लौटने पर वह विवाद सुलझाने की कोशिश करेंगे.

ऐसी रिपोर्टें है कि भारतीय अधिकारियों से नाराज होकर ऑस्ट्रेलियाई कंपनियां भुगतान को लेकर मुकदमे दर्ज करने की तैयारियां कर रही हैं. एक ऑस्ट्रेलियाई अखबार का कहना है कि कॉमनवेल्थ खेलों के आयोजकों ने चार बड़ी कंपनियों के कई करोड़ डॉलर नहीं चुकाए हैं. ऑस्ट्रेलिया की सरकार का कहना है कि वह अपनी कंपनियों के साथ खड़ी है और भारतीय अधिकारियों से पैसा लिया जाएगा.

Der indische Außenminister S. M. Krishna

कृष्णा-डैमेज कंट्रोल

दोनों विदेश मंत्रियों के साझा बयान में भी मामले की तल्खी कम करने की कोशिश की गई. कृष्णा ने कहा, ''मेरी जानकारी में यह बात आ चुकी है. भारत वापस जाने के बाद मैं खेल मंत्रालय के सामने इस मुद्दे को रखूंगा.'' हालांकि उन्होंने विवाद सुलझाने के लिए कोई समयसीमा नहीं दी. ये जरूर कहा कि इसे जल्द से जल्द सुलझाया जाएगा.

वहीं ऑस्ट्रेलिया के पूर्व प्रधानमंत्री और मौजूदा विदेश मंत्री रड ने कहा, ''हमने इन मुद्दों की चर्चा की है. भारत सरकार के रुख से ऑस्ट्रेलिया संतुष्ट है. यह थोड़ा मुश्किल जरूर है, लेकिन हमें आशा है कि मामला सही हाथों में चला गया है. हम ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों के साथ मिलकर काम करेंगे.''

भारत में पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में कॉमनवेल्थ खेल हुए. खेलों में भ्रष्टाचार, लापरवाही और सुस्ती जैसे कई मुद्दे हावी रहे. खेल आयोजन समिति के अधिकारियों पर करोड़ो रुपये के घोटाले का आरोप लग रहा है. इन आरोपों की जांच भारत की केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई कर रही है. शक के घेरे में कॉमनवेल्थ खेल आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी भी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन:एमजी

DW.COM