1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

'कलमाड़ी के दावों का ठोस जवाब दिया जाएगा'

लंदन में भारतीय उच्चायोग ने कहा, कलमाड़ी के दावों का खंडन करते हुए पूरी जानकारी दी जाएगी. कलमाडी़ ने दावा किया है कि भारतीय उच्चायोग की सिफारिश पर ही ब्रिटेन की एक फर्म को करोड़ों रुपये दिए गए.

default

सोमवार को उच्चायोग के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि इस मामले को पूरी तत्परता से देखा जा रहा है. आने वाले दिनों में इस बारे में और जानकारी मुहैया कराई जाएगी. उच्चायोग ने बयान जारी कर कहा, ''पहली अगस्त 2010 को कॉमनवेल्थ खेल आयोजन समिति ने कार, वैन और अन्य बातों को लेकर उच्चायोग की सिफारिश के जो दावे किए हैं, उन पर पैनी नजर रखी जा रही है. आगे इस मामले में जानकारी मुहैया कराई जाएगी.''

कॉमनवेल्थ खेलों की तैयारी में भारी धांधली का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. मुश्किल में घिरे कलमाड़ी ने लंदन के भारतीय उच्चायोग को भी बीच में घसीट दिया है. दरअसल लंदन में कॉमनवेल्थ खेलों की मशाल दौड़ाने के नाम पर कॉमनवेल्थ खेल आयोजन समिति ने करोड़ों रुपये फूंक दिए. बिना करार के एक ब्रिटिश फर्म को सामान मुहैया कराने और फोटो-वीडियोग्राफी कराने का ठेका दे डाला.

Indien Neu Delhi Memorandum Zentralbank

ब्रिटिश फर्म को हर सेवा के लिए पैसा बाजार मूल्य से कई गुना ज्यादा कीमत चुकाई गई. बाद में इस पैसे पर टैक्स छूट भी पानी चाही, लेकिन यहीं से सारा मामला सामने आ गया.

विवाद गहराने पर कलमाड़ी ने कहा कि बिना करार के ब्रिटिश फर्म को भारतीय उच्चायोग की सिफारिश पर ठेका दिया गया. भारतीय उच्चायोग इससे इनकार कर रहा है. कलमाड़ी का आरोप है कि उच्चायोग के राजू सबेस्टियन ने यह सिफारिश की थी. सवाल यह भी उठ रहे हैं कि कॉमनवेल्थ खेल समिति ने राजू सबेस्टियन जैसे आम कर्मचारी की सिफारिश किस आधार पर मानी.

रिपोर्ट: पीटीआई/ओ सिंह

संपादन: आभा एम

DW.COM

WWW-Links