1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कर्नाटक संकट होगा कल हल

बीजेपी नेता मनोहर परिक्कर ने असंतुष्ट विधायकों की बैठक के बाद कहा कि कर्नाटक का राजनीतिक संकट शनिवार तक हल हो जाएगा. बीजेपी के वरिष्ठ नेता नाराज विधायकों से बातचीत कर रहे हैं.

default

गोवा में बेनॉलिम ताज एक्सॉटिका रेसॉर्ट में पिछली रात से कड़ी सुरक्षा की गई है क्योंकि कर्नाटक से बीजेपी के असंतुष्ट विधायक वहां पहुंचे हैं. परिक्कर ने कहा कि असंतुष्ट विधायकों को राज्य सरकार से कुछ परेशानी है. " इसका मतलब ये नहीं है कि वे कांग्रेस को समर्थन दे रहे हैं. कांग्रेस हर तरीके से उन्हें अपनी तरफ लेना चाहती है."
कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी भी राज्य में हैं साथ ही कांग्रेस के नेता भी वहां मौजूद हैं.
बीजेपी का दावा है कि असंतुष्ट विधायकों से बातचीत करने आए कर्नाटक के पर्यटन मंत्री जनार्दन रेड्डी को कांग्रेस के नेताओं ने रोक दिया. हमारे विधायकों को नजरबंद करके रखा गया है. ये बहुत बुरा है.
पिछली रात को अंसतुष्ट विधायकों से परिक्कर ने बातचीत की जब वे 60 अन्य सदस्यों के साथ होटेल में घुस गए.
कर्नाटक की 29 महीने पुरानी सरकार संकट में पड़ गई जब 14 बीजेपी और पांच स्वतंत्र विधायकों ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया. इस कारण राज्यपाल एचआर भारद्वाज ने मुख्यमंत्री से 12 अक्तूबर तक बहुमत साबित करने को कहा. मुख्यमंत्री ने कहा वह 11 अक्तूबर को शक्ति परीक्षण करेंगे.

11 अक्तूबर से पहले बीजेपी और जेडीएस कोशिश कर रही है कि असंतुष्ट विधायकों को अपनी तरफ खींच लिया जाए. मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सहित पार्टी के वरिष्ठ नेता भी इस कोशिश में लगे हैं. तो जनार्डन रेड्डी उन्हें अपने पाले में लेना चाहते हैं.
225 सीटों वाली कर्नाटक विधान सभा में बीजेपी के 122 विधायक हैं जिन्हें पांच निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी प्राप्त है. इसके अलावा एक निर्दलीय और स्पीकर के अतिरिक्त 73 कांग्रेस के और 28 जेडीएस के विधायक हैं. सरकार से बीजेपी के 19 बागी विधायकों के समर्थन वापस लेने से बीजेपी के पास अब सिर्फ 106 ही विधायक बचे हैं
येदियुरप्पा सरकार को अब भी बहुमत के लिए सात और विधायकों की जरूरत है ताकि विश्वास मत के दौरान उनके पास कम से कम 113 विधायकों का समर्थन हो.
हालांकि येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने की पूरी उम्मीद है क्योंकि आबकारी मंत्री एमपी रेणुकाचार्य ने कहा, "हम येदियुरप्पा सरकार को अस्थिर नहीं करना चाहते. हमारी कोई मांग या शर्त नहीं है. हम सरकार को ब्लैकमेल भी नहीं कर रहे हैं. येदियुरप्पा हमारे नेता हैं और हम विश्वास मत के समर्थन करेंगे."
बीजेपी सूत्रों के मुताबिक तीन बीजेपी विधायकों को छोड़ कर सभी सरकार के समर्थन में आ जाएंगे. येदियुरप्पा ने कहा कि हमें विश्वास है, "हम 11 अक्तूबर को बहुमत साबित कर देंगे."
रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः ए जमाल



DW.COM