1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कराची में चुनाव से पहले हिंसा, 24 की मौत

कराची में दो प्रतिद्वंद्वी जातीय गुटों के बीच ताजा हिंसा में 24 लोग मारे गए हैं. ये हिंसा ऐसे समय में हुई है जब आज प्रांतीय असेंबली की कराची सीट के लिए हो रहे उपचुनाव के लिए वोट डाले जा रहे हैं.

default

1947 में विभाजन के बाद भारत से पाकिस्तान जाने वाले उर्दू भाषी लोगों और खैबर पख्तून ख्वाह प्रांत से काम की तलाश में कराची जा कर बसने वाले पश्तो भाषी लोगों के बीच अकसर इस तरह की हिंसा होती रही है. इसे टारेगट किलिंग का नाम दिया जाता है. स्थानीय जियो टीवी के मुताबिक शनिवार की शाम शुरू हुई ताजा हिंसा में 24 लोग मारे गए. 50 लोग घायल भी बताए जाते हैं.

ये हिंसा रविवार को सिंध प्रांत की कराची सीट के लिए होने वाले उपचुनाव से ठीक पहले हुई. यह सीट उर्दू भाषी मुत्तेहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के विधायक रजा हैदर की पिछले महीने हत्या के बाद खाली हुई है. पार्टी हैदर की हत्या के लिए आवामी नेशनल पार्टी (एएनपी) को जिम्मेदार बता रही है. एमक्यूएम नेता की हत्या के बाद हुई हिंसा में अब तक 100 लोगों की जान जा चुकी है. जियो का कहना है कि शहर में तनाव है और अलग अलग हिस्सों में गोलीबारी चल रही है. पुलिस अब तक इन हत्याओं को रोकने में नाकाम रही है.

Anschlag in Karatschi

ताजा हिंसा की वजह ऐन वक्त पर एएनपी के चुनाव से हट जाने को माना जा रहा है ताकि लचर सुरक्षा व्यवस्था का हवाला देकर चुनाव को टलवाने के लिए दबाव बनाया जा सके. लेकिन सरकार ने रविवार को होने वाले चुनाव को टालने से इनकार कर दिया और किसी भी तरह की हिंसा को रोकने के लिए 84 मतदान केंद्रों पर सैकड़ों पुलिसकर्मियों और अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है.

कराची सिंध प्रांत की राजधानी और पाकिस्तान की मुख्य व्यापारिक केंद्र है. शहर की आबादी एक करोड़ 80 लाख बताई जाती है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links