1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

कम वक्त में फिट रहने के तरीके

फिटनेस प्रेमी जो जिम में कसरत के लिए वक्त नहीं निकाल सकते हैं लेकिन फिर भी कसरत करना चाहते हैं. वह ऐसे ऐप्स का सहारा ले सकते हैं जो कम समय में छोटे और गहन व्यायाम करा सकते हैं.

अमेरिकी रोग नियंत्रण केंद्र सलाह देता है कि वयस्कों को हर हफ्ते 150 मिनट एरोबिक अभ्यास करना चाहिए. लेकिन हाल के शोध से यह सुझाव मिलता है कि कम कसरत करने से भी स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. आईफोन और एंड्रायड फोन के लिए बना नया फिटनेस ऐप स्वोरकिट यूजरों को पांच मिनट से भी कम समय के लिए कसरत कराता है.

ऐप के निर्माता और वॉशिंगटन स्थित कंपनी एनएक्सरसाइज के सीईओ बेंजामिन यंग के मुताबिक, "हमने महसूस किया कि बहुत से लोगों के पास पर्याप्त समय नहीं है. हमने ऐसा ऐप बनाया जो उन लोगों के लिए है जिनके पास समय नहीं और वे जिम नहीं जा सकते."

ऐप यूजर के पास सुविधा होगी कि वह ऐप में मौजूद पहले से ही कस्टम ट्रेनिंग सर्किट की मदद से कार्डियो, स्ट्रेंचिंग या ताकत बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं. ऐप के सहारे उनके पास विकल्प होगा कि वह शरीर के किस हिस्से पर और कसरत के लिए कितना समय देना चाहते हैं. ऐप में यूजर्स को 30 सेकेंड वाले वीडियो की मदद से कसरत करने के बारे में समझाया गया है या फिर ऐप यूजर अपने हिसाब से अपनी कसरत तैयार कर सकते हैं.

इसी तरह से जॉनसन एंड जॉनसन ने अपना आधिकारिक सात मिनट फिटनेस ऐप लॉन्च किया है. इसमें भी यूजरों को कम अवधि वाली कसरत के टिप्स दिए जाते हैं. जॉनसन एंड जॉनसन के क्रिस जॉर्डन के मुताबिक, "हम तेज जिंदगी जीते हैं, हमें ऐसे तेज समाज के आदी हैं जहां हर कोई जीवन की हर समस्या का हल जल्दी और तेजी से चाहता है."

यूजरों के फिटनेस लेवल और उनकी मांग के मुताबिक स्वोरकिट ऐप वीडियो के जरिए उन्हें गाइड करता है. यूजर ऐप में कसरत के एक हजार वीडियो की मदद से कसरत कर सकते हैं. यह ऐप दुनिया के तीस देशों में उपलब्ध है.

यूनिवर्सिटी ऑफ टोरोंटो में काइनेसियोलॉजी के सहायक प्रोफेसर ग्रेग वेल्स कहते हैं कि शारीरिक गतिविधि का छोटा-छोटा टुकड़ा भी सकारात्मक प्रभाव छोड़ता है. वेल्स कहते हैं, "फिजियोलॉजी इस तरह की होती है कि आपको सात मिनट की छोटी सी कसरत के बाद भी फायदा होता है, जब आपका शरीर आराम कर रहा होता है. तो असर 30 मिनट की एक्सरसाइज वाला होता है. इसलिए इस तरह के वर्कआउट बहुत फायदा कर सकते हैं."

एए/एएम (रॉयटर्स)

DW.COM