1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

कब टूटा भारत अफ्रीका से, कब जुड़ा एशिया में

पश्चिमी भारत में मिले कुछ कीड़ों के अवशेष ने वैज्ञानिकों के लिए और सवाल खड़े कर दिए हैं. बहस इस बात पर है कि भारत कब अफ्रीका से टूटा और कब आकर वह एशिया में जुड़ा. इसी कारण हिमालय बना है.

default

कई लाख साल से एंबर में फंसे कीड़ों ने वैज्ञानिकों के लिए इस विषय पर और उलझन पैदा कर दी है कि भारत कब अफ्रीकी महाद्वीप से अलग हुआ और एशिया में मिलने से पहले कितने दिन वह अलग रहा.

वैज्ञानिकों को खंभात की खाड़ी में एंबर में फंसे कई कीड़े मिले हैं जो करीब पांच करोड़ साल से उसमें फंसे हुए हैं.

वैज्ञानिकों का अब तक मानना रहा है

bernstein.jpg

एंबर

कि भारत अफ्रीका से अलग होने के बाद काफी दिन अलग ही था. वह उम्मीद कर रहे थे कि पांच करोड़ साल पुराने ये जो कीड़े मिलै हैं वह निश्चित ही एशिया के कीड़ों की प्रजाति से अलग होंगे. लेकिन अमेरिका के विज्ञान की राष्ट्रीय अकादमी में प्रकाशित शोध के मुताबिक इन कीड़ों में कुछ भी अलग नहीं हैं.

अमेरिका के नेचुरल हिस्ट्री संग्रहालय के प्रमुख डेविड ग्रिमाल्डी का कहना है, "हम जानते हैं कि भारत अलग था लेकिन कह और कब तक इस बारे में हमें कोई सटीक जानकारी नहीं है. एंबर में फंसे ये जो कीड़े पाए गए हैं ये संकेत देते हैं कि उनमें कोई बायोटिक कनेक्शन था."

भारत आज के अफ्रीका से करीब पांच करोड़ साल पहले अलग हो एशिया से जा टकराया था जिससे हिमालय बना. वैज्ञानिकों को ऐसे प्रमाण भी मिले हैं जो भारत को अफ्रीका या मैडागास्कर से जोड़ने की बजाए उत्तरी यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका से जोड़ते हैं.

जर्मनी की बॉन यूनिवर्सिटी में इनवर्टिब्रेट पेलेन्टोलॉजी के प्रोफेसर येस रस्ट कहते हैं, "एंबर बताता है ठीक किसी पुराने फोटो की तरह कि एशियाई महाद्वीप से जुड़ने से पहले भारत का चित्र कैसा था." जबकि पारिस्थितिकी और क्रमिक विकास विज्ञान के प्रोफेसर माइकल एंजेल कहते हैं. "फंसे हुए कीड़े इस उप महाद्वीप के इतिहास पर नया प्रकाश डालते हैं. जो हमें मिला है वह इंगित करता है कि भारत पूरी तरह से अलग नहीं हुआ था. हालांकि खंभात की खाड़ी से जो अवशेष हमें मिले हैं वह उसी समय के हैं जिस समय भारत एशियाई महाद्वीप में मिल रहा था. कुछ जुड़ाव दोनों में हो सकते हैं."

रिपोर्टः एएफपी आभा एम

संपादनः एमजी

DW.COM

WWW-Links