1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

कपड़े पहन कर भारत आएगा प्लेबॉय

गोवा में खुलने जा रहा भारत का पहला प्लेबॉय क्लब अपने मशहूर अंदाज में जरूर होगा लेकिन भारतीय मर्यादा के आंचल के साथ. प्लेबॉय क्लब भारत आ रहा है लेकिन यहां बन्नियों के कपड़े बदन दिखाने वाले नहीं होंगे.

भारतीय पर्यटन विभाग के अधिकारियों ने प्लेबॉय को पहले ही चेतावनी दे दी है कि अगले महीने खुलने जा रहे क्लब को बंद करने में उन्हें जरा भी देर नहीं लगेगी अगर किसी भी तरह की अश्लीलता, नग्नता या अशिष्टता नजर आई. प्लेबॉय की भारतीय फ्रेंचाईजी पीबी लाइफस्टाइल के सीईओ संजय गुप्ता का कहना है, "बन्नियों की ड्रेस प्लेबॉय संस्कृति का अटूट हिस्सा है लेकिन वह भारत की संवेदनाओं और नैतिकता के अनुरूप ही होगी."

तमाम उदारताओं के बावजूद भारत में सेंसरशिप तगड़ी है और सच कहा जाए तो प्लेबॉय के भारतीय संस्करण की उम्मीद नहीं की जा सकती. प्लेबॉय पत्रिका पर वैसे भी भारत में पाबंदी है. ह्यू हेफनर ने इस पत्रिका को शुरू किया था जो लड़कियों की नंगी तस्वीरों के लिए दुनिया भर में मशहूर है. पत्रिका से बहुत आगे जा कर प्लेबॉय क्लब और बिंदास जीवनशैली का प्रतीक बन गया है.

Playboy Bunny

प्लेबॉय की बन्नियां या वेट्रेस खास अंदाज में काले साटन के कपड़े, बो टाई, और खरगोश के कान पहनती हैं. पीबी लाइफस्टाइल ने अभी यह तय नहीं किया है कि भारत में बन्नियों की ड्रेस कैसी होगी. अब तक जिन देशों में प्लेबॉय की मौजूदगी रही है वहां लोगों के विचारों की आजादी सबसे ज्यादा उनके पहनावे और जीवनशैली में ही नजर आती है पर भारत में ऐसा नहीं है. यहां तो प्रेमी जोड़ों का खुलेआम हाथ में हाथ लेना भी कई बार बवाल मचा देता है. टी20 क्रिकेट में विदेशी चीयरलीडर्स के छोटे कपड़ों पर जब बवाल हुआ तो मजबूरी में आयोजकों को उनके कपड़ों की लंबाई बढ़ानी पड़ी.

पीबी लाइफस्टाइल ने प्लेबॉय के साथ 30 साल के लिए करार किया है. क्लब के बारे में संजय गुप्ता ने कहा, "हमारे क्लब में नग्नता नहीं होगी. इसलिए कोई समस्या नहीं होगी और अगर कुछ हुआ तो हम उससे निपटने के लिए तैयार हैं." गुप्ता की कंपनी प्लेबॉय के ब्रैंड और इसके विख्यात खरगोश के कान वाले लोगों का इस्तेमाल अपने क्लबों, बार, होटल और कॉफी हाउस में करेगी.

Logo Playboy

पहले पांच साल में कंपनी ने 2 अरब रूपये खर्च करने का फैसला किया है. पहला प्लेबॉय क्लब गोवा में शुरू होगा इसके बाद अगला हैदराबाद में खोलने की तैयारी है. हालांकि क्लब को भारत में कितनी सफलता मिलेगी इस बारे में कुछ कहना जल्दबाजी होगी. 25 साल के यश शांघवी कहते हैं, "ये लोग बड़ी पवित्रता से पूरे कपड़ों में लिपटी महिलाओं के साथ मौज और मस्ती को जोड़ रहे हैं. इस तरह के बोरिंग अंदाज में प्लेबॉय को भारत लाने की जरूरत क्या है."

एनआर/एएम (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

WWW-Links