1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कंबोडिया में भगदड़, 339 मरे

कंबोडिया की राजधानी नॉमपेंह में एक पुल पर हुई भगदड़ में कम से कम 339 लोग मारे गए हैं और लगभग इतने ही घायल हो गए हैं. राजधानी में हो रहे जल महोत्सव के अंतिम दिन अचानक हजारों लोगों की भीड़ में भगदड़ मच गई.

default

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार भगदड़ तब मची जब राजधानी नॉमपेंह को पड़ोसी डॉयमंड आइलैंड को जोड़ने के लिए बत्तियां लिए खड़े कई लोगों को करंट लग गया. अधिकांश लोग या तो डूब गए या उनका दम घुट गया या भागने के चक्कर में कुचल दिए गए.

Kambodscha Wasserfest in Phnom Penh

महोत्सव में आतिशबाजी

सरकारी टेलिविजन ने दोनों शहरों के अस्पतालों के हवाले से कहा है कि मरने वालों में लगभग 240 महिलाएं थीं. एक प्रत्यक्षदर्शी वान थोन ने कहा, "लोग संबंधियों की लाशें लेकर जा रहे थे, जिनमें महिलाएं और बच्चे भी थे. हर किसी के चेहरे पर दहशत थी."

कंबोडिया के प्रधानमंत्री हून सेन ने घटना के लिए क्षमा मांगी है और जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा, "यह पोल पोट शासन के 31 साल बाद सबसे बड़ी त्रासदी है." वे ख्मेर रूज के खूनी शासन काल की ओर इशारा कर रहे थे जिसके चार साल (1975-79) के शासन काल में अनुमानतः 17 लाख लोग मारे गए थे.

Kambodscha Wasserfest in Phnom Penh

जल महोत्सव

हून सेन ने देशवासियों से शांति रहने की अपील की है और दुर्घटना के पीछे आतंकी हमले की संभावना से इंकार किया है. उन्होंने कहा, "और जांच की जरूरत है." गुरुवार को राष्ट्रीय शोक मनाने का फैसला लिया गया है.

बोन ओम टूक जल महोत्सव टोनल सैप नदी में धार के मुड़ने के मौके पर मनाया जाता है. कंबोडिया की लगभग डेढ़ करोड़ आबादी में पचास लाख लोग जल महोत्सव देखने राजधानी नॉमपेंह जाते हैं. यह भगदड़ 2006 के बाद दुनिया के सबसे गंभीर हादसों में शामिल है जब सउदी अरब में मक्का के निकट जमारत पुल पर पत्थर फेंकने की रस्म के दौरान हुई भगदड़ में 362 मुस्लिम हजयात्री मारे गए थे.

रिपोर्ट: एजेंसिया/महेश झा

संपादन: एस गौड़

DW.COM