1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

और बेरोजगार हुआ यूरो जोन

संकट से जूझ रहे यूरो जोन में बेरोजगारी का स्तर नईं ऊंचाई पर पहुंच गया है. मंगलवार को जारी आंकड़े बता रहे हैं कि नवंबर में इसका स्तर 11.8 फीसदी तक चला गया. उत्तरी और दक्षिणी यूरोप के देशों के बीच फासला बढ़ रहा है.

यूरो जोन के देशों में कर्ज संकट से बदहाल ग्रीस और स्पेन की हालत लगातार खराब बनी हुई है और वहां से मिले रोजगार के आंकड़े परेशान करने वाले हैं. इन दोनों देशों में बेरोजगारी का स्तर 26 फीसदी तक जा पहुंचा है जबकि युवाओं में इसका स्तर 56 फीसदी पर है. इनके बीच सबसे अच्छी हालत ऑस्ट्रिया, लक्जमबर्ग, जर्मनी और नीदरलैंड्स की है जहां बेरोजगारी सबसे कम है. इन देशों में बेरोजगारी का आंकड़ा 4.5 से 5.6 के बीच है.

उत्तर दक्षिण का फासला

यूरोपीय संघ में रोजगार मामलों के आयुक्त लास्लो एंडर ने बेरोजगारी और गरीबी के खतरों पर फासला बढ़ने की चेतावनी दी है, "खास तौर से उत्तर और पूर्वी यूरोप के बीच". एंडर ने ब्रसेल्स में यूरोपीय आयोग के 2012 के लिए रोजगार और सामाजिक विकास की समीक्षा रिपोर्ट जारी करते हुए कहा, "तेजी से बढ़ रही बेरोजगारी का सामना कर रहे देश और उन देशों में जहां रोजगार का बाजार ठीक से काम कर रहा है फासला बढ़ रहा है." इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, "हम वित्तीय और आर्थिक संकट और मंदी के असर का सामना कर रहे हैं और इसका नतीजा यह हुआ है कि यूरोपीय संघ में बेरोजगारी उस स्तर पर जा पहुंची है जहां वह पिछले दो दशक में कभी नहीं थी."

यूरो जोन के देशों में बेरोजगारों की तादाद 2011 के मध्य से अचानक बड़ी तेजी से बढ़ने लगी. नवंबर का आंकड़ा विश्लेषकों की आशंका के अनुरूप ही है उनमें से बहुतों का मानना है कि यह अभी और ऊपर जाएगा. यूरोपीय संघ के सांख्यिकी विभाग यूरोस्टैट के मुताबिक इस महीने यूरोजोन के 17 देशों में 113,000 और लोग बेरोजगारों की कतार में शामिल होंगे. फिलहाल कुल 1.88 करोड़ लोग बेरोजगार हैं जो एक साल पहले की तुलना में करीब 20 लाख ज्यादा है. इन बेरोजगारों में 25 साल से कम उम्र के युवाओं की तादाद करीब 37 लाख है. इस तरह से करीब 24.4 फीसदी युवा बेरोजगार हैं.

27 देशों वाले यूरोपीय संघ के लिए नवंबर में कुल बेराजगारों का आंकड़ा 10.7 फीसदी पर रहा हालांकि 154,000 और लोगों के शामिल होने से इनकी तादाद 2.6 करोड़ तक जा पहुंची है.

एंडर को नहीं लगता कि इस साल यूरोप में कोई सामाजिक आर्थिक बदलाव होगा जब तक कि कर्ज संकट को दूर करने का कोई प्रभावशाली तरीका नहीं ढूंढ लिया जाता. उनका मानना है कि निवेश के लिए जरिया ढूंढना होगा और पैसे को अर्थव्यवस्था के वास्तविक सुधार पर खर्च करना होगा. उन्होंने सदस्य देशों से अपील की है कि वो शिक्षा, योग्यता बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण, रोजगार के बाजार में सुधार और वेतन का बढ़िया तंत्र बनाने पर खूब सारा निवेश करें.

एंडर ने कहा कि संकट बढ़ने पर सरकारों के लिए लोगों पर निवेश करना कठिन हो जाता है लेकिन इस वक्त सामाजिक निवेश की ही जरूरत है. एंडर के मुताबिक अगर ऐसा नहीं होता है तो आर्थिक ताकट घटेगी और भविष्य के लिए सामाजिक खर्च भी बढ़ जाएगा. हालांकि इसके साथ ही उन्होंने यूरोपीय संघ के खर्च में कटौती के कदमों का भी बचाव किया और इसे जरूरी बताया.

यूरोपीय संघ संकट से निकलने और विकास को हासिल करने के लिए बेचैनी से संघर्ष कर रहा है. नवंबर में खुदरा बाजार 0.1 फीसदी ऊपर चढ़ा हालांकि जानकारों को उम्मीद तो 0.3 फीसदी की थी. दिखने में यह इजाफा भले ही छोटा लगे लेकिन तीन महीने की गिरावट के बाद इतने की उछाल भी बाजार के लिए राहत की सांस लेकर आई. हालांकि नवंबर महीने में बिक्री में इजाफा इतना कम पहले कभी नहीं रहा. अगर 2011 से भी इसकी तुलना करें तो यह करीब 2.6 फीसदी कम था. यहां तक कि त्यौहारों के मौसम में भी लोगों के भरोसे में कोई बदलाव नहीं हुआ.

एनआर/एजेए (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links