1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

और चार साल छाए रहने की चाह

जमैका के स्टार एथलीट यूसैन बोल्ट आने वाले सालों में अपना दबदबा कायम रखना चाहते हैं. वे अंतरराष्ट्रीय खेल से संन्यास लेने से पहले छह सोने के ओलंपिक पदकों की झोली को थोड़ा और भारी करना चाहते हैं.

दुनिया के सबसे तेज धावक यूसैन बोल्ट के मन में 2016 में रियो दे जनेरो के ओलंपिक खेलों के बाद अपना करियर समाप्त करने से पहले कुछ और ओलंपिक पदक जीतने की चाह है.यूसैन ने कहा, "मैं व्यक्तिगत तौर पर समझता हूं कि मेरे पास इस खेल में और कोई चार साल हैं, इसलिए फिलहाल इन चार सालों में अपना दबदबा बनाए रखने का मामला है." ये बात गुरुवार को गोल्डन गाला में यूरोपीय सीजन में हिस्सेदारी की तैयारी कर रहे 26 वर्षीय बोल्ट ने रोम में एक प्रेस कांन्फ्रेंस में कही.

यूसैन बोल्ट ने 100 और 200 मीटर की दौड़ में ओलंपिक और विश्व रिकॉर्ड बनाए हैं. वे कहते हैं, "मैं अगले ओलंपिक में कुछ ऐसा करना चाहता हूं कि जो पहले कभी नहीं किया गया है. यह मेरे लिए इस समय सबसे बड़ी बात है." छोटी दूरी की रेस में नया रिकॉर्ड बनाकर तहलका मचाने वाले बोल्ट इस साल मांशपेशियों में खिंचाव से परेशान रहे हैं. उन्होंने पिछले महीने केमैन द्वीप पर हुई एक रेस में हिस्सा लिया था जहां उन्होंने 100 मीटर की रेस में 10.09 सेकंड लिया.

गुरुवार को होने वाली रेस में यूसैन बोल्ट के अलावा अमेरिका के जस्टिन गैटलिन और सेंट किट्स के किम कोलिंस भी भाग ले रहे हैं. गैटलिन ने लंदन ओलंपिक में कांसे का पदक जीता था जबकि कोलिंस 2003 के वर्ल्ड चैंपियन हैं.

यूसैन बोल्ट का कहना है कि उन्होंने अपनी चोट पर काबू पा लिया है और वे छोटी दूरी की रेस पर अपनी पकड़ कमजोर नहीं होने देंगे. 2008 में बीजिंग ओलंपिक में जीत के बाद से एथलेटिक्स की इस विधा पर वे छाए रहे हैं. वे कहते हैं, "इसके लिए कड़ी मेहनत की जरूरत होगी, और मुझे सचमुच प्रतिस्पर्धा का इंतजार है क्योंकि वह मुझे प्रेरणा देता है और यह खेल की मदद करता है. मैं जितना हो सके करूंगा, मजे लूंगा और आने वाले सालों में खेल को विकसित करने में मदद करूंगा."

एमजे/एनआर (रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री