1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ओबामा भारत के लिए रवाना

चार एशियाई देशों की यात्रा के तहत अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत के लिए रवाना हो गए हैं. उनके भारत दौरे का खास मकसद अमेरिकी कंपनियों के लिए भारतीय बाजार को खोलने की पैरवी करना है. आतंकवाद भी एजेंडे पर है.

default

49 वर्षीय राष्ट्रपति ओबामा का यह पहला भारत दौरा है. इसके बाद वह जापान, इंडोनेशिया और दक्षिण कोरिया भी जाएंगे. लेकिन उनके भारत दौरे को सबसे ज्यादा तवज्जो दी जा रही है. आर्थिक तौर पर तेजी से उभरते हुए भारत को ओबामा अपनी अर्थव्यवस्था की पतली हालत को सुधारने के लिए खासा अहम मान रहे हैं.

भारत रवाना होने से पहले एक बयान में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह भारत जैसे देशों में बाजार को और ज्यादा खोलने पर बात करेंगे क्योंकि अमेरिकी लोगों की नौकरियां काफी हद तक अमेरिकी निर्यात पर ही निर्भर करती हैं. ओबामा के मुताबिक उनके प्रशासन का मकसद अगले पांच साल में देश के निर्यात को दोगुना करना है ताकि अमेरिकी लोगों के लिए ज्यादा से ज्यादा नौकरी के मौके उपलब्ध कराए जा सकें.

दो दिन पहले ही आए अमेरिकी मध्यावधि चुनाव के नतीजों में ओबामा की डेमोक्रैटिक पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा है. आर्थिक तंगी झेल रहे अमेरिकी लोग राष्ट्रपति ओबामा की सरकार की नीतियों से खुश नहीं बताए जाते हैं. हालांकि देश की अर्थव्यवस्था मंदी से उबर रही है लेकिन अब भी बहुत सारे लोग बेरोजगार हैं. ओबामा ने कहा, "यह बात साफ है कि नौकरियों के नए मौके तभी पैदा होंगे जब अमेरिकी श्रमिकों के बने अमेरिकी माल के लिए ज्यादा बाजार खुलें. इसीलिए मैं इस दौरे पर जा रहा हूं. मैं भारत जैसे देशों में बाजार को और खोलने पर जोर दूंगा."

ओबामा के मुताबिक वह अगले चुनाव की बजाय भविष्य पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं. वह कहते हैं, "सबसे कड़ी प्रतियोगिता इस देश में डेमोक्रैट्स और रिपब्लिकनों के बीच नहीं होगी. यहां मुकाबला दुनिया के उन देशों से होगा जो विश्व अर्थव्यवस्था को तय कर रहे हैं."

राष्ट्रपति ओबामा अपने भारत दौरे की शुरुआत मुंबई से कर रहे हैं. वह उसी ताज होटल में ठहरेंगे जिसे मुंबई के आतंकवादी हमलों के दौरान निशाना बनाया गया था. इससे साफ है कि अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे में आतंकवाद पर भी खास तौर से चर्चा होगी. खास कर भारत इन हमलों के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए पाकिस्तान पर दबाव डलवाने की कोशिश करेगा. भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट पाने की अपनी दावेदारी के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति का समर्थन हासिल करने की भी कोशिश करेगा. हालांकि ओबामा ने इस मुद्दे पर अभी तक कोई आश्वासन नहीं दिया है.

ओबामा का विमान तेल भरने के लिए जर्मनी के रामश्टाइन में रुकेगा और शनिवार को दोपहर 12.50 बजे उनका विमान मुंबई पहुंच जाएगा. भारत की व्यापारिक राजधानी मुंबई में दो दिन रहने के बाद ओबामा रविवार को दिल्ली पहुंचेंगे जहां उनकी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अन्य अहम भारतीय नेताओं से मुलाकात होगी.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links