1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ओबामा ने मांगी 26/11 पर सफाई

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अमेरिकी राष्ट्रपति से मुलाकात में ड्रोन हमलों को सबसे अहम मुद्दा बताया है. ओबामा ने इसका जवाब देने की जगह शरीफ से पूछा कि अब तक मुंबई हमलों के आरोपियों पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई.

वॉशिंगटन में दो घंटे तक चली बातचीत के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने पत्रकारों से कहा, "उन्होंने (ओबामा ने) मुझसे पूछा कि भारत में हुए आतंकवादी हमले पर अब तक मुकदमा क्यों नहीं शुरू हुआ." इसके अलावा ओबामा ने पाकिस्तान के डॉक्टर शकील अफरीदी के बारे में भी पूछा. अफरीदी वही शख्स है जिसने ओसामा बिन लादेन को पकड़वाने में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए की मदद की. फिलहाल वह पाकिस्तान की जेल में कैद है.

शरीफ ने कहा, "उन्होंने अफरीदी का मुद्दा उठाया, सीमा पार आतंकवाद पर बात की. उन्होंने जमात उद दावा का भी जिक्र किया." दोनों नेताओं के बीच कश्मीर के मुद्दे पर भी बातचीत हुई. लेकिन क्या बात हुई, इसकी जानकारी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने नहीं दी.

वहीं ओबामा ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें लगता है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री सही रास्ते पर चल रहे हैं, "मुझे लगता है कि दशकों से भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव को कम करने के लिए उन्होंने सही रास्ता चुना है, क्योंकि, जैसा कि उन्होंने मुझे बताया कि इस तनाव के कारण अब तक लड़ाई और हथियारों पर कई अरब डॉलर खर्च हो चुके हैं और इन संसाधनों को सीमा के दोनों तरफ, भारत और पाकिस्तान में बेहतर शिक्षा प्रणाली, मूलभूत संरचनाओं और बेहतर सामाजिक ढांचे को बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है."

USA Pakistan Obama und Sharif

शरीफ और ओबामा की बातचीत दो घंटे से भी ज्यादा चली.

सहायता राशि नहीं, व्यापार की जरूरत

शरीफ ने पाकिस्तान में अमेरिका के ड्रोन हमलों का मुद्दा भी उठाया. बीते दो साल में पाकिस्तान में ड्रोन हमलों की संख्या कम तो हुई है, पर अब भी ये हमले विवाद का विषय बने हुए हैं. इस्लामाबाद का आरोप है कि इन हमलों में कई आम नागरिकों की जान जा चुकी है. इन आरोपों के बाद भी अमेरिका ने हमले बंद करने का कभी कोई आश्वासन नहीं दिया. अमेरिका का दावा है कि वह पाकिस्तान के कबायली इलाकों में छिपे आतंकवादियों पर हमला कर रहा है.

जब ओबामा ने शरीफ से पूछा कि अमेरिका पाकिस्तान के लिए क्या कर सकता है तो उन्होंने जवाब दिया कि उनके देश को सहायता राशि की नहीं, व्यापार की जरूरत है. अपने बयान में शरीफ ने कहा, "हम अपने आर्थिक संबंध सुधारना चाहते हैं. आप पाकिस्तान के लिए अपने बाजार खोल दें, हमारे लिए यह बहुत है. मैंने उनसे कहा कि वे अपने लोगों को, प्राइवेट सेक्टर को, पाकिस्तान आने के लिए प्रोत्साहित करें और वहां निवेश करें. पाकिस्तान के पास उनके लिए बहुत अच्छी संभावनाएं हैं."

शरीफ रविवार को अमेरिका पहुंचे. इस साल जून में प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद से यह उनका पहला अमेरिका दौरा है. ओबामा से मुलाकात से पहले वह विदेश मंत्री जॉन केरी और अन्य उच्च अधिकारियों से भी मिले.

आईबी/ओएसजे (एपी, रॉयटर्स, पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री