1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ओबामा ने कहा भारत पाक बातचीत आगे बढ़ाएं

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत और पाकिस्तान से आपसी बातचीत आगे बढ़ाने की अपील की है. इसके साथ ही ओबामा ने पाकिस्तान से आतंकवाद के खिलाफ और अधिक कारगर कदम उठाने को भी कहा है.

default

मुंबई में कॉलेज छात्रों से मुलाकात में ओबामा ने ये बात कही. ओबामा ने कहा कि अमेरिका इन दो देशों पर बेहतर संबंध बनाने का दबाव नहीं डाल सकता लेकिन तेजी से आगे बढ़ते भारत को किसी भी देश की तुलना में पाकिस्तान से बेहतर रिश्ते ज्यादा फायदा पहुंचाएंगे. ओबामा ने साफ कहा, "मुझे पूरा यकीन है कि पाकिस्तान में अगर किसी की सबसे बड़ी भूमिका है तो वो भारत की है."

मुंबई के सेंट जेवियर कॉलेज में ओबामा ने छात्रों से मुलाकात की और उनके सवालों के जवाब दिए. छात्रों ने अफगानिस्तान पाकिस्तान से लेकर गांधी से उनके जुड़ाव और अमेरिकी अर्थव्यवस्था के साथ ही युवाओं के बारे में उनकी सोच तक के बारे में सवाल किए और ओबामा ने बेबाकी से उनके जवाब दिए. भारत पाक के बारे में उन्होंने कहा "अगर पाकिस्तान समृद्ध और स्थिर रहेगा तो फायदा भारत को होगा." ओबामा ने दोनों देशों के बीच बातचीत की प्रक्रिया का समर्थन किया. दोनों देश एक दूसरे पर भरोसा करने और नेताओं को आपसी विवाद खत्म करने का मौका देने के लिए बातचीत कर रहे हैं. ओबामा ने उम्मीद जताई है, "समय बीतने के साथ दोनों देशों के बीच भरोसा कायम होगा, पहले छोटे विवादों पर बातचीत होगी और फिर बड़े विवादों के हल भी ढूंढ लिए जाएंगे." उन्होंने ये भी कहा कि इस बीच इतना तो तय है कि दोनों देश एक साथ शांति और समृद्धि से रह सकते हैं.

छात्रों ने ओबामा से पाकिस्तान को भारी मदद दिए जाने पर भी सवाल पूछे. खासतौर से ऐसे हालात में जब पाकिस्तान का सरकारी तंत्र लगातार नाकाम साबित हो रहा है. जवाब में ओबामा ने कहा पाकिस्तान आतंकवाद के कैंसर को खत्म करने की कोशिश कर रहा है लेकिन नतीजे जल्दी नहीं आ रहे. ओबामा ने कहा, "मैं सोचता हूं कि पाकिस्तान को समझना चाहिए कि खतरा उसकी सीमा के भीतर है." अमेरिकी राष्ट्रपति ने ये भी माना कि सेना के लिए अफगानिस्तान की सीमा पर आतंकवादियों से लड़ना काफी मुश्किल काम है. यही वजह है कि आतंकवादियों पर लगाम कसने में वक्त लग रहा है. अमेरिकी सरकार मानती है कि सब कुछ रातों रात नहीं हो जाएगा और इसलिए पाकिस्तान को सहयोग देना जारी रहेगा. राष्ट्रपति का कहना है, "हम पाकिस्तान के दोस्त हैं और उसकी मदद करेंगे लेकिन समस्या को खत्म करना होगा."

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links