1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ओबामा के दौरे पर हर दिन 900 करोड़ का खर्चा

आर्थिक मुश्किलों के बावजूद अब भी अमेरिका ही दुनिया की सुपरपावर है. अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे से भी यह बखूबी जाहिर होता है. अमेरिका ओबामा के मुंबई दौरे में हर दिन 20 करोड़ डॉलर यानी लगभग 900 करोड़ रुपये खर्च करेगा.

default

मुंबई में अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा के दौरे की तैयारियों से जुड़े महाराष्ट्र सरकार के एक आला अधिकारी ने बताया, "राष्ट्रपति की सुरक्षा, उनके प्रवास और दूसरी चीजों पर हर दिन अमेरिका 20 करोड़ अमेरिकी डॉलर खर्च करेगा." राष्ट्रपति के साथ सीक्रेट सर्विस एजेंट, सरकारी अधिकारी और पत्रकारों समेत लगभग तीन हजार लोग होंगे. व्हाइट हाउस और अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों के बहुत से अधिकारी पहले ही हेलीकॉप्टरों, पोतों और अन्य अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों के साथ मुंबई पहुंच चुके हैं.

Obama Ölpest Golf Besuch

नाम जाहिर ने करने की शर्त पर इस अधिकारी ने बताया, "राष्ट्रपति के निजी सुरक्षा गार्डों के अलावा किसी अन्य अमेरिकी अधिकारी को हथियार लेकर चलने की अनुमित नहीं होगी. राज्य पुलिस सुरक्षा प्रबंधों में सक्षम है और वे राष्ट्रपति के काफिले की निगरानी करेंगे." राज्य सरकार ने वायुसेना और नौसेना से कहा है कि राष्ट्रपति ओबामा के मुंबई प्रवास के दौरान तटीय इलाकों और उनके वायुक्षेत्र में गश्त बढ़ाई जाए. ओबामा के मुंबई में आने से आधे घंटे पहले वायुक्षेत्र को बाकी विमानों के लिए सील कर दिया जाएगा ताकि राष्ट्रपति और उनके साथ आ रहे अधिकारियों के विमानों को कोई असुविधा न हो.

एसआरपीएफ, फोर्स वन के अलावा एनएसजी की टुकड़ियों को शहर में तैनात किया गया है और उन्हें राष्ट्रपति की सुरक्षा में लगाया जाएगा. अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल मुंबई के ताज होटल में ठहरेंगे. मुंबई हमलों के दौरान इस होटल को भी निशाना बनाया गया था. ओबामा के आने जाने के दौरान ताज के इलाके से कोलाबा के शिकरा हैलीपैड तक के इलाके में को पूरी तरह सील कर दिया जाएगा.

अपनी यात्रा के पहले दिन ओबामा ताज होटल में मुंबई हमलों में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देंगे. वह वहां आतंकवाद पर बयान भी दे सकते हैं. राज्य सरकार चाहती हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति मरीन ड्राइव पर बने शहीद स्मारक भी जाएं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एमजी

DW.COM