1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ओबामा कह चुके, आज भारत की बारी

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की अब तक की भारत यात्रा में सब अच्छा अच्छा कहा सुना गया है. सोमवार से यात्रा का वह हिस्सा शुरू होगा जो भारत के लिए अहम है. अब भारत अपनी बातें रखेगा. इनमें कुछ मुश्किल सवाल भी हैं.

default

सोमवार को बराक ओबामा का दिन काफी व्यस्त रहेगा. उनके दिन की शुरुआत सुबह पौने दस बजे राष्ट्रपति भवन में औपचारिक अगवानी के साथ होगी. इसके बाद वह राजघाट जाएंगे और अपने प्रिय महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे. राजघाट से ओबामा सीधे हैदराबाद हाउस जाएंगे जहां उन्हें भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ अकेले में बातचीत

Dossierbild Obama Ankunft Asien Bild 1

करने का मौका मिलेगा.

यह ओबामा की यात्रा का सबसे अहम हिस्सा है क्योंकि इसी दौरान भारत अपनी चिंताएं और मांगें अमेरिकी राष्ट्रपति के सामने रखेगा. अब तक ओबामा ने भारत में जो भी कहा सुना है उसमें भारत के लिए कुछ खास नहीं रहा है. खासतौर पर आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान के रवैये पर भारत जिस तरह की उम्मीद कर रहा था वैसे प्रतिक्रिया उसे ओबामा से मिली नहीं है. उम्मीद की जा रही है कि मनमोहन सिंह भारत की बात ओबामा के सामने रखेंगे और कोशिश करेंगे कि साझा बयान में पाकिस्तान की बात शामिल की जाए. अफगानिस्तान के भविष्य पर भी चर्चा होने की उम्मीद है.

अब तक ओबामा की बॉडी लैंग्वेज जिस तरह की रही है उसे देखते हुए विशेषज्ञ उनसे ज्यादा उम्मीद नहीं लगा रहे हैं. फिर भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट की अपनी मांग और चीन को लेकर क्षेत्र में हो रहे बदलावों के बारे में ओबामा के सामने अपना रुख पेश करेगा. स्थायी सीट के मुद्दे पर अमेरिका भारत के बारे में ज्यादा उत्साहित नहीं रहा है.

दोपहर पौने एक बजे जब साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी तो भारत अपने पक्ष की कितनी बातें ओबामा से कहलवा पाता है, उसी के आधार पर तय होगा कि भारत के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति का यह दौरा कितना कामयाब रहा.

दोपहर बाद बराक ओबामा उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे. शाम को साढ़े पांच बजे ओबामा को भारतीय संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करना है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एमजी

DW.COM