1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ऑस्लो नहीं जाएंगे मोदी और शरीफ

भारत के कैलाश सत्यार्थी और पाकिस्तान की मलाला युसूफजई को अगले महीने नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. उम्मीद की जा रही थी कि इस समारोह में दोनों देशों के प्रधानमंत्री भी शिरकत करेंगे.

इस उम्मीद का आधार नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ को मलाला का निमंत्रण था. उन्होंने पुरस्कार पाने के बाद कहा था, "मैं नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ से निवेदन करती हूं कि जिस समय हमें शांति पुरस्कार दिया जाए, वे हमारे साथ हों." उन्होंने कहा था कि उनके इस निवेदन को सिर्फ सुना ही नहीं जाएगा इस पर ध्यान भी दिया जाएगा. कैलाश सत्यार्थी ने भी भारत और पाकिस्तान के रिश्तों को सुधारने के लिए मलाला के साथ काम करने की तैयारी जताई थी.

नॉर्वे की नोबेल कमिटी ने बताया है कि नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ दोनों ही समारोह में मौजूद नहीं रहेंगे. भारत पाकिस्तान के बीच चल रहे सीमा विवाद को देखते हुए उम्मीद थी कि यह दोनों देशों के लिए संबंध सुधारने की पहल का अच्छा मौका हो सकता है. नोबेल कमिटी के गेयर लुंडस्टट का कहना है, "हमने उम्मीद नहीं की थी कि ऐसा कुछ हो सकेगा." समाचार एजेंसी डीपीए को उन्होंने बताया, "पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और भारत के उनके समकक्ष नरेंद्र मोदी के नाम आमंत्रित लोगों की सूची में नहीं हैं."

नोबेल कमिटी सत्यार्थी और मलाला को एक साथ शांति पुरस्कार दे कर भारत और पाकिस्तान को तो साथ ला ही रही है, साथ ही कमिटी ने इस बात पर भी जोर दिया है कि पुरस्कार पाने वालों में एक हिन्दू और एक मुसलमान है. दोनों ही बाल विकास और बच्चों के अधिकारों के लिए लड़ रहे हैं.

17 साल की मलाला नोबेल पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की विजेता हैं. गेयर लुंडस्टट ने कहा कि मलाला ने "परिवार, दोस्तों और यकीनन कुछ नेताओं को आमंत्रित किया है लेकिन पाकिस्तान के मुख्य राजनेताओं के नाम सूची पर नहीं हैं." पुरस्कार समारोह के बाद 11 दिसंबर को होने वाले कंसर्ट में बॉलीवुड केंद्र में रहेगा. नोबेल कमिटी का कहना है कि पुरस्कार विजेताओं की इच्छा पर ही कंसर्ट के संगीत में बॉलीवुड का कलेवर मिलाया जा रहा है.

नोबेल शांति पुरस्कार हर साल अल्फ्रेड नोबेल की पुण्यतिथि 10 दिसंबर को ऑस्लो में दिया जाता है. वहीं विज्ञान, साहित्य और अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार स्टॉकहोम में दिए जाते हैं. हर पुरस्कार की राशि 80 लाख क्रोन यानि करीब दस लाख डॉलर है.

आईबी/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री