1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ऑस्ट्रेलिया में बनेगी गिलार्ड सरकार

ऑस्ट्रेलिया में हुए संसदीय चुनावों के दो सप्ताह बाद बहुमत खोने के बावजूद प्रधानमंत्री जूलिया गिलार्ड ने सत्ता में बने रहने की संभावना पक्की कर ली है और वे अल्पमत सरकार बनाएंगी.

default

कड़ी सौदेबाजी के बाद मंगलवार को तीन निर्दलीय सांसदों में से दो ने गिलार्ड के गठबंधन को समर्थन देने का फैसला लिया. तीसरे निर्दलीय सांसद ने पहले ही विपक्षी मोर्चे के नेता टोनी एबट को समर्थन देने की घोषणा की थी. दो निर्दलीय सांसदों के समर्थन के बाद गिलार्ड को संसद में 76 सदस्यों का समर्थन प्राप्त होगा जबकि विपक्ष के पास सिर्फ 74 मत होंगे. 21 अगस्त को हुए संसदीय चुनावों में किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था.

निर्दलीय सांसदों रॉब ओकशॉट और टोनी विंडसर ने मंगलवार को कैनबरा में पत्रकारों के सामने गिलार्ड सरकार को समर्थन देने की घोषणा की. एक अन्य निर्दलीय सांसद एंड्र्यू विल्की ने पिछले गुरुवार को ही प्रधानमंत्री गिलार्ड की भावी सरकार को समर्थन देने की घोषणा की थी जबकि रॉब काटर ने मंगलवार को एबट को समर्थन देने का फैसला लिया.

एबट को समर्थन देने की काटर की घोषणा के बाद लगने लगा था कि एबट के नेतृत्व में कंजरवेटिव पार्टी सरकार बनाने के करीब आ रही है. वह ओकशॉट और विंडसर के समर्थन की उम्मीद कर रहे थे. यदि दोनों सांसद किसी के पक्ष में नहीं जाने का फैसला करते तो ऑस्ट्रेलिया में नया चुनाव कराना पड़ता.

पिछले चुनावों में 70 साल बाद पहली बार किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला. गिलार्ड की लेबर पार्टी और एबट की अनुदारवादी लिबरल पार्टी को 150 सदस्यों वाली संसद में 73-73 सीटें मिली. ऑस्ट्रेलिया में ब्रिटेन की ही तरह दो सदनों वाली संसद है लेकिन प्रतिनिधि सभा में बहुमत पाने वाली पार्टी सरकार बनाती है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links