1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ऑस्ट्रेलियाई शेयर बाजार बिकने को तैयार

दुनिया में ऐसा पहली बार हो रहा है कि कोई शेयर बाजार इस तरह बिक रहा है. ऑस्ट्रेलियाई शेयर बाजार को खरीदने के लिए सिंगापुर के शेयर बाजार ने बोली लगाई है. सोमवार को दोनों पक्षों ने अरबों डॉलर के इस समझौते का एलान किया.

default

अपनी तरह का यह पहला समझौता होगा. इसे दुनिया के सबसे बड़े वित्तीय समझौतों में शामिल किया जाएगा. सिंगापुर के SGX ने सिडनी स्थित ASX के अधिग्रहण के लिए 8.2 अरब अमेरिकी डॉलर का प्रस्ताव रखा है. नए संस्थान को ASX-SGX कहा जाएगा. अधिग्रहण की प्रक्रिया अगले साल की पहली छमाही में पूरी होने की संभावना है. इसके लिए शेयरधारकों और नियामकों की मंजूरी लेनी होगी. हालांकि इस विलय के बाद भी एएसएक्स और एसजीएक्स कानूनी तौर पर अलग अलग कंपनियां रहेंगी और अपने अपने देशों में काम करती रहेंगी.

लेकिन विलय के बाद इस कंपनी की बाजार पूंजी लगभग 12.3 अरब डॉलर हो जाएगी. तब यह दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा शेयर बाजार बन जाएगा. सिर्फ हॉन्गकॉन्ग, शिकागो, ब्राजील और जर्मनी के बाजार ही इससे आगे होंगे. अगर लिस्टिंग की बात देखी जाए तो ASX-SGX टोक्यो को पीछे छोड़कर का दूसरा सबसे बड़ा शेयर बाजार बन जाएगा. तब उससे आगे सिर्फ बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज होगा. संयुक्त शेयर बाजार में 20 देशों की 2700 से ज्यादा कंपनियां होंगी. इनमें से 200 तो चीन से ही होंगी.

एसजीएक्स के चीफ एग्जेक्यूटिव मैगनस बोकर संयुक्त कंपनी के सीईओ होंगे. अपनी योजनाओं के बारे में वह कहते हैं, "अब से 10 साल के भीतर यानी 2020 तक दुनिया का आधे से ज्यादा जीडीपी एशिया पैसिफिक में होगा. ऐसे में हमारे सामने एक बड़ा मौका है जिसे हम नहीं गंवाना चाहते."

बोकर कहते हैं कि यह एक ऐतिहासिक विलय है. अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जरनल ने लिखा है कि इस विलय से 1.9 खरब अमेरिकी डॉलर का बाजार पैदा होगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links