1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ऑस्ट्रिया की कमान संभालेंगे 31 वर्षीय सेबास्टियान कुर्त्स

यूरोपीय राजनीति का मौजूदा दौर बेहद ही रोमांचक माना जा सकता है. जर्मनी में जहां पहली बार धुर दक्षिणपंथी पार्टी को संसद में जगह मिली है तो वहीं ऑस्ट्रिया के चुनावी नतीजे 31 साल के नेता की जीत का इशारा कर रहे हैं.

ऑस्ट्रिया की पीपुल्स पार्टी देश में हुए आम चुनावों में जीत के नजदीक पहुंच गयी है. खास बात यह है कि कंजर्वेटिव कही जाने वाली इस पार्टी का नेतृत्व . शुरुआती रुझानों में ही साफ हो गया कि पार्टी को इन चुनावों में 30 फीसदी से अधिक वोट मिल सकते हैं. नतीजों के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में समर्थकों को संबोधित करते हुए कुर्त्स ने कहा, "मैं आज आपसे वादा करता हूं कि मैं देश में बदलावों के लिए अपनी पूरी शक्ति के साथ लड़ूंगा." उन्होंने कहा, "यह वक्त देश में नये राजनीतिक तौर-तरीके स्थापित करने का है और मैं इस बड़ी जिम्मेदारी को विनम्रता से स्वीकार करता हूं"

जर्मन चुनावों की ही तरह इन चुनावों में दक्षिणपंथी दल उभार साफ दिखा. देश की धुर दक्षिणपंथी और अप्रवासियों के खिलाफ सुर बुलंद करने वाली फ्रीडम पार्टी, 26 फीसदी मतों के साथ तीसरे स्थान पर रही, वहीं सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी को 26.9 फीसदी के साथ दूसरे स्थान पर है. कयास है कि अगर कुर्त्स की पीपुल्स पार्टी बहुमत से फासले पर रहती है तो वो फ्रीडम पार्टी के साथ गठबंधन कर सकती है क्योंकि इस साल की शुरुआत में कु्र्त्स सोशल डेमोक्रेटिक के साथ गठबंधन से अलग हुए थे.

अगर ऐसा होता है तो साल 2000 के बाद यह पहला मौका होगा जब धुर दक्षिणपंथी पार्टी सरकार में शामिल होगी. कुर्त्स ने साफ कर दिया है कि वे सरकार बनाने के लिए अन्य विकल्पों पर भी विचार कर सकते हैं. हालांकि साल 2013 में सेबास्टियान कुर्त्स ऑस्ट्रिया के अब तक के सबसे युवा विदेश मंत्री का पद भी संभाल चुके हैं. 

एए/ओएसजे (डीपीए,एएफपी,रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री