1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

वर्ल्ड कप

ऐतिहासिक जीत के साथ 30वां गोल्ड

दिल्ली कॉमनवेल्थ खेलों में अब वह भी हो गया है जो पिछले 52 साल ने नहीं हो पाया था. भारत को एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल मिल गया है. कृष्णा पूनिया ने डिस्कस थ्रो में सोने का तमगा जीतकर इतिहास रच दिया.

default

कृष्णा एथलेटिक्स में कॉमनवेल्थ गोल्ड जीतने वाली पहली महिला भारतीय बन गई हैं. इस गोल्ड मेडल के साथ ही भारत के सोने के तमगों की तादाद 30 हो गई है. पूनिया ने गोल्ड जीतने के लिए अपनी डिस्क को 61.51 मीटर दूर फेंका. 1958 के बाद पहली बार किसी एथलीट ने भारत के लिए गोल्ड जीता है. तब फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह ने वेल्स के कार्डिफ में 440 गज की दौड़ में गोल्ड मेडल जीता था.

वैसे इस प्रतियोगिता में हर नतीजा भारत के नाम रहा क्योंकि सिल्वर मेडल हरवंत कौर ने जीता और ब्रॉन्ज सीमा अंतिल के हिस्से आया. हरवंत ने चक्का 60.61 मीटर दूर फेंका जबकि अंतिल 58.46 मीटर दूर फेंक पाईं. अंतिल इस खेल में भारत की नेशनल रिकॉर्ड धारक हैं.

इससे पहले शूटिंग में भारत की तेजस्विनी सावंत और मीना कुमारी ने ब्रॉन्ज मेडल जीता. हालांकि बॉक्सिंग के रिंग भारत के लिए अच्छी खबर नहीं आई. ओलंपिक ब्रॉन्ज मेडल विजेता बॉक्सर विजेंद्र कुमार अपना मुकाबला हारकर पदक की दौड़ से बाहर हो गए.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links