1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

एशेज में फव्वाद के खेलने की उम्मीद

ऑस्ट्रेलिया से शरण मांगने वाले पाकिस्तानी खिलाड़ी फव्वाद अहमद इंग्लैंड में क्रिकेट की एशेज सीरीज में खेल सकते हैं. उन्हें ऑस्ट्रेलिया की ए टीम का हिस्सा बनाने के बाद नागरिकता कानून में भी संशोधन हो रहा है.

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच यह सीरीज अगले महीने होगी. 31 साल के फव्वाद की सीरीज में खेलने की संभावना तब बनी जब उन्हें शरण देने वाले देश ने नाटकीय रूप से सिटिजनशिप एक्ट में संशोधन करने का फैसला किया. इस संशोधन के बाद उनके आवेदन पर तेजी से कार्रवाई हो सकेगी. बुधवार को ऑस्ट्रेलियाई संसद के निचले सदन ने इस संशोधन को मंजूरी दे दी.

हालांकि अभी इस बिल को संसद के ऊपरी सदन से मंजूरी लेनी होगी लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को इसके कानून बनने की पूरी उम्मीद है. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के मुख्य चयनकर्ता जॉन इनवेररिटी ने अहमद को जल्दी ही नागरिकता मिल जाने का भरोसा जताते हुए कहा, "फव्वाद एक फिरकी गेंदबाज हैं और हमें इंतजार है कि वह ऑस्ट्रेलिया ए के लिए कैसा प्रदर्शन करते हैं."

नया कानून ऑस्ट्रेलिया के अप्रवासन मंत्री को यह अधिकार देता है कि वह नागरिकता के कुछ मामलों में निवास की जरूरी अवधि को कम कर सके. यह अधिकार खासतौर से फव्वाद जैसे खिलाड़ियों के कुछ चुनिंदा मामलों में ही लागू होगा. फिलहाल खिलाड़ियों की योग्यता के बारे में आईसीसी के नियमों के मुताबिक अहमद राष्ट्रीय टीम के लिए चुने जाने लायक 18 अगस्त को होंगे. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का कहना है कि अगर नया कानून बन जाता है और अहमद को नागरिकता और ऑस्ट्रेलियाई पासपोर्ट उस तारीख से पहले मिल जाता है तो उन्हें तुरंत राष्ट्रीय टीम में शामिल कर लिया जाएगा. अहमद को ऑस्ट्रेलिया में रहने का स्थायी वीजा बीते नवंबर में दिया गया.

आईसीसी के नियम ऑस्ट्रेलिया ए की टीम पर लागू नहीं होते और इसलिए फव्वाद को इस टीम का हिस्सा बनाया गया है. इसी सप्ताह के आखिर में फव्वाद ब्रिटेन के लिए रवाना होंगे. ऑस्ट्रेलिया ए को यहां आयरलैंड और ग्लूश्टेनशायर के खिलाफ खेलना है. मेलबर्न में पत्रकारों से बातचीत में फव्वाद ने कहा, "मेरे लिए यह शानदार खबर है, मैं बहुत खुश हूं. ऑस्ट्रेलिया ए के लिए बाहरी परिस्थितियों में खुद को साबित करने का यह मेरे पास शानदार मौका है."

फव्वाद ने यह भी कहा कि बीता दौर उनके लिए काफी मुश्किल रहा है. फव्वाद ने कहा, "पाकिस्तान में लड़ाइयों के कारण मैं 2010 में भाग कर यहां के शरणार्थी शिविर में आ गया. यहां अस्तित्व के लिए लड़ता रहा लेकिन राह नहीं छोड़ी, कड़ी मेहनत की." उन्होंने ऑस्ट्रेलिया का भी आभार जताया, "इस देश ने मुझे बहुत कुछ दिया है. उन्होंने मुझे सम्मान और इज्जत दी."

ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए फव्वाद के खेलने की संभावनाओं पर शेन वॉर्न ने खुशी जताई है. उनका मानना है कि फव्वाद एशेज सीरीज से खेल का बड़ा सितारा बन कर उभर सकते हैं. एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलियाई बेड़े में नाथन लॉयल अकेले फिरकी गेंदबाज हैं ऐसे में अहमद और दूसरे गेंदबाजों के लिए संभावना बनी हुई है. अहमद ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व टेस्ट गेंदबाज स्टुअर्ट मैकगिल से ब्रिस्बेन में प्रशिक्षण लिया है और इंग्लैंड में भी शेन वार्न से उन्हें कोचिंग मिलने की संभावना है.

एनआर/एएम(एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री