1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एर्दोवान की नाजी टिप्पणी पर जर्मनी ने जताया ऐतराज

जर्मनी ने तुर्की राष्ट्रपति रेचेप तैयप एर्दोवान की उस टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जतायी है, जिसमें उन्होंने जर्मन चांसलर के तुर्क लोगों पर "नाजी तौर तरीके" अपनाने का आरोप लगाया.

Deutschland Zehntausende Kurden gehen in Frankfurt auf die Straße (Reuters/R. Orlowski)

जर्मनी के फ्रैंकफर्ट शहर में तुर्की शासक एर्दोवान के खिलाफ सड़कों पर उतरे कुर्द प्रदर्शनकारी

जर्मन सरकार की एक प्रवक्ता ने सोमवार को कहा, "नाजियों से तुलना किसी भी रूप में स्वीकार्य नहीं है." उन्होंने आगे कहा कि दोनों के बीच संबंधों को खराब होने से बचाने के लिए तुर्की को ऐसा राग आलापना बंद कर देना चाहिये.

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोवान ने रविवार को इस्तांबुल शहर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, "मैर्केल, अब आप नाजी तरीके आजमा रही हो. जर्मनी में रहने वाले मेरे भाइयों के खिलाफ, और मेरे उन मंत्रियों और सांसदों के खिलाफ जो वहां गए. क्या ये राजनीति के आचारों को शोभा देता है?"

एर्दोवान की ऐसी टिप्पणियों और नाजी टिप्पणियां करने को लेकर तुर्की की जर्मनी और कई अन्य यूरोपीय देशों में निंदा हुई है. इसके पहले भी एर्दोवान ने आज के जर्मनी और नीदरलैंड्स की तुलना नाजी शासनकाल से की थी. इन दोनों देशों में तुर्की के मंत्रियों को उनके देश में कराये जा रहे जनमत संग्रह को लेकर सभा करने अनुमति नहीं दी गई थी.

चांसलर मैर्केल की कंजर्वेटिव पार्टी के महासचिव पेटर टाउबर ने एन24 टेलीविजन चैनल से बातचीत में कहा कि "यह हमारी चांसलर के लिए दिखाया गया दुस्‍साहस है." उन्होंने आगे कहा कि "हम गुस्सा दिखा सकते हैं, पैर पटक सकते हैं और शायद जवाब भी दे सकते हैं. लेकिन चांसलर को हमारे देश के हितों को सुरक्षित रखना है."

यूरोपीय संसद के अध्यक्ष अंतोनियो ताजानी ने ट्विटर पर लिखा, "एक लोकतांत्रिक देश पर @RT_Erdogan का बर्दाश्त ना किया जाने लायक हमला है. वो देश जो बुनियादी अधिकारों की गारंटी देता है."

आरपी/एमजे (एपी,रॉयटर्स)

 

DW.COM

संबंधित सामग्री