1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एरिजोना की गोलीबारी के आरोप से भड़कीं पैलिन

अमेरिकी नेता सेरा पैलिन ने एरिजोना में हुई गोलीबारी के लिए उनके ऊपर लगे राजनीतिक हिंसा भड़काने के आरोपों पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है. उन्होंने इसे खून से भरी मानहानि करार दिया है.

default

एक विडियो संदेश में पैलिन ने कहा, "हादसे के कुछ ही घंटों के भीतर पत्रकारों और विशेषज्ञों ने खून के छींटे फेंकने शुरू कर दिए जो कि इस तरह की और घटनाओं की वजह बन सकता है. उन लोगों को तो इस घटना की निंदा करनी चाहिए थी."

रिपब्लिकन पार्टी की ओर से उप राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ चुकीं सेरा पैलिन एरिजोना में सांसद गिफर्ड पर हुई गोलीबारी के बारे में बात कर रही थीं. शनिवार को एक बंदूकधारी ने गिफर्ड की जनसभा में गोलियां चलाईं. इसमें छह लोगों की मौत हो गई और गिफर्ड समेत 14 लोग घायल हुए.

USA Sarah Palin Rede Spickzettel

सेरा पैलिन

डेमोक्रैटिक पार्टी की तरफ से इस तरह के आरोप लगाए गए हैं कि इस गोलीबारी के लिए सेरा पैलिन जिम्मेदार हैं क्योंकि उन्होंने ही राजनीतिक नफरत को हवा दी. पैलिन ने इसे सिरे से खारिज किया है. उन्होंने कहा, "अब उस अमेरिकी अवधारणा को दोबारा सामने लाने का वक्त है कि हर व्यक्ति अपने कामों के लिए खुद ही जिम्मेदार होता है. शैतानी अपराधों के लिए लोग खुद आगे आते हैं. ये अपराध अपराधियों के साथ ही शुरू और खत्म हो जाते हैं. इनके लिए पूरे देश के लोग जिम्मेदार नहीं होते. वे लोग जिम्मेदार नहीं होते जो रेडियो सुनते हैं. कानून का पालन करने वाले उन लोगों का भी इनसे कोई लेनादेना नहीं जो अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हैं."

NO FLASH Anschlag Arizona USA Gabrielle Giffords

गैब्रिएले गिफर्ड

अलास्का की पूर्व गवर्नर पैलिन पद छोड़ने के बाद से मीडिया के निशाने पर बनी हुई हैं. उनके कई बयानों को भड़काऊ बताया गया है. जब उन्होंने टेक बैक 20 नाम की वेबसाइट बनाई, तब भी उनकी काफी आलोचना हुई. इस वेबसाइट पर अमेरिका का एक नक्शा लगाया गया है. नक्शे में हर संसदीय सीट पर एक विरोधी उम्मीदवार की फोटो लगी और उस पर बंदूक का निशान बनाया गया है. सांकेतिक रूप से यह निशान उन्हें चुनाव में हराने की ओर इशारा करता है.

इन्हीं में एक फोटो गिफर्ड की भी है. गिफर्ड ने भी सेरा पैलिन की इस वेबसाइट के लिए तीखी आलोचना की थी.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links