1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एम्स में बढ़ेगें चार हजार बिस्तर

दिल्ली के एम्स अस्पताल में मरीजों के बढ़ते दबाव के कारण अगले पांच से दस साल के अंदर 4,000 बिस्तर बढ़ाये जाएंगे. साथ ही कई खंडों और एम्स ट्रॉमा सेंटर का विस्तार किया जाएगा.

दिल्ली का एम्स भारत के बेहतरीन अस्पतालों में गिना जाता है. एम्स के निदेशक डॉ. एमसी मिश्रा ने बताया, "दिल्ली ही नहीं, अन्य राज्यों से भी लोग एम्स में इलाज के लिए आते हैं. इसलिए मौजूदा सुविधाओं को और बढ़ाने की जरूरत है." उन्होंने बताया कि अगले पांच से दस साल में बिस्तरों की संख्या चार हजार बढ़ाई जाएगी. इसमें हरियाणा के झज्जर में बनाया जा रहा एम्स कैंसर इंस्टीट्यूट भी शामिल है जिसमें 750 बिस्तर होंगे.

20 अरब रुपये की लागत

मिश्रा ने बताया कि इसके लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी मिल चुकी है. 20 अरब 36 करोड़ रुपये की लागत से 45 महीने में इसका निर्माण पूरा किया जाएगा. इसके अलावा दिल्ली स्थित परिसर में सर्जिकल ब्लॉक, मदर एंड चाइल्ड केयर, इमरजेंसी वॉर्ड और एम्स ट्रॉमा सेंटर का भी विस्तार कर तकरीबन 2,500 बिस्तर बढ़ाने की योजना है. इसमें ऑपरेशन थिएटर और ओपीडी का विस्तार शामिल है.

डॉ. मिश्रा ने बताया कि सर्जिकल खंड के विस्तार के लिए तकरीबन एक अरब रुपये, मदर एंड चाइल्ड केयर के लिए ढाई अरब और आपातकालीन खंड के लिए करीब दो अरब रुपये की जरूरत होगी. उन्होंने बताया कि अभी अंतिम एस्टीमेट तैयार किया जाना बाकी है.

डॉ. मिश्रा के अनुसार एम्स ट्रॉमा सेंटर के पीछे दिल्ली विकास प्राधिकरण की 100 एकड़ जमीन खाली पड़ी है. इसे भी ट्रॉमा सेंटर में मिलाने का प्रयास किया जा रहा है. यदि यह जमीन ट्रॉमा सेंटर को मिल जाती है तो वहां कई नए केंद्र खोले जा सकेंगे जिनमें विशेष उपचार सुविधाएं उपलब्ध होंगी.

आईबी/एएम (वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री