1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एटा का युद्धविराम, चलेगा 'लोकतांत्रिक रास्ते' पर

बास्क उग्रवादी गुट एटा ने युद्धविराम का एलान किया है. स्पेन और फ्रांस की सीमा पर स्थित बास्क इलाके की आजादी के लिए बरसों से हिंसक संघर्ष करने वाला एटा अब अपने उद्देश्य के लिए लोकतांत्रित रास्ते पर चलने की बात कह रहा है.

default

बास्क भाषा के अखबार गारा की वेबसाइट के मुताबिक एटा ने महीनों पहले ही हिंसक कार्रवाई बंद करने का फैसला कर लिया. उत्तरी स्पेन और दक्षिणी फ्रांस के कुछ हिस्सों को अलग बास्क देश बनाने की मांग करने वाले एटा उग्रवादियों की मुहिम में पिछले 40 साल के दौरान 850 लोग मारे गए हैं.

गारा की बेवसाइट पर लगे वीडियो के मुताबिक काले कपड़े पहने और अपने मुंह को ढके तीन लोग दिखाए गए हैं. वीडियो में एटा के ये सदस्य कह रहे हैं कि हथियारबंद संघर्ष ने नई "राजनीतिक परिस्थियां" पैदा की हैं. उनके मुताबिक, "अगर स्पेन चाहता है तो एटा आज या कल में ही अपनी मांगों के लिए लोकतांत्रित प्रक्रिया शुरू करने को तैयार है."

उधर स्पेन के गृह मंत्रालय के अधिकारी एटा की तरफ से युद्धविराम की घोषणा पर कुछ भी कहने से अभी बच रहे हैं. प्रधानमंत्री जपाटेरो की सरकार को अंदेशा है कि युद्धविराम के नाम पर एटा खुद को मजबूत बनाने की कोशिश कर सकता है. वह पहले भी ऐसा करता रहा है. मार्च 2006 में एटा ने स्थायी युद्धविराम की घोषणा की, लेकिन मैड्रिड के हवाई अड्डे के पास एक कार बम धमाके के बाद प्रधानमंत्री जपाटेरो ने उग्रवादी गुट से बातचीत तोड़ दी. इस हमले में इक्वाडोर के दो नागरिकों की मौत हुई.

एटा स्पेन की सरकार पर अलगाववाद को खत्म करने के लिए "फासीवादी मुहिम" चलाने का आरोप लगाता रहा है. लेकिन अब इस उग्रवादी गुट ने कहा कि वह "लोकतांत्रिक समाधान" की खातिर बातचीत और समझौते का रास्ता अपनाना चाहता है ताकि बास्क इलाके के लोग स्वतंत्र रूप से अपने भविष्य का फैसला कर सकें.

एटा यूरोपीय संघ और अमेरिका की आतंकवादी संगठनों की सूची में शामिल है. वह 1962 से अगल बास्क देश के लिए संघर्ष कर रहा है जिसमें अब तक सैकड़ों लोगों की जानें गई हैं. लेकिन पिछले एक साल से उसने कोई हमला नहीं किया है. पुलिस अधिकारी को उसकी तरफ से युद्धविराम की घोषणा किए जाने की उम्मीद थी. हाल के बरसों में एटा के कई नेता गिरफ्तार किए गए हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः वी कुमार