1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

एग्जिट पोल ने की गिलार्ड की जीत की भविष्यवाणी

ऑस्ट्रेलिया में चुनाव के दिन वोटिंग खत्म होने से पहले कराए गए सर्वेक्षणों में बहुत कम अंतर से प्रधानमंत्री जूलिया गिलार्ड की जीत की संभावना जाहिर की गई है. कई सर्वे के मुताबिक जूलिया की पार्टी को 52 फीसदी वोट मिलेंगे.

default

चैनल 9 ने सत्ताधारी लेबर पार्टी को 52 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया है. ऑस्ट्रेलिया में शनिवार को आम चुनावों के लिए वोट डाले गए. प्रधानमंत्री जूलिया गिलार्ड चुनाव समय से पहले कराकर एक दांव खेला लेकिन यह उतना सफल नहीं रहा क्योंकि विपक्षी लिबरल/नैशनल गठबंधन उन्हें कड़ी टक्कर दे रहा है. वोटिंग से पहले के सभी सर्वेक्षणों ने यही कहा कि गिलार्ड के लिए जीत आसान नहीं होगी और मुकाबला कांटे का होगा. लेकिन वोटिंग के दौरान हुए एग्जिट पोल गिलार्ड के सत्ता में बने रहने की भविष्यवाणी कर रहे हैं.

हालांकि इन सर्वेक्षणों में यह बात भी कही गई है कि ऐसी सीटों पर जहां टक्कर कांटे की है, नतीजे लेबर पार्टी के खिलाफ भी जा सकते हैं. इन सीटों में खासतौर पर क्वींसलैंड और न्यू साउथ वेल्स राज्यों का जिक्र है, जहां नतीजों के बारे में किसी भी तरह की भविष्यवाणी बेहद मुश्किल मानी जा रही है.

Australien / Rudd / Gillard

ऑस्ट्रेलिया की पहली महिला प्रधानमंत्री हैं जूलिया

शाम 6 बजे वोटिंग बंद होने से पहले स्काई न्यूज ने अपना एग्जिट पोल दिखाया. इसके मुताबिक लेबर पार्टी विपक्षी नेता टोनी एबट की पार्टी से मामूली अंतर से आगे है. सर्वेक्षण कहता है कि गिलार्ड की पार्टी को 51 फीसदी वोट मिलेंगे जबकि टोनी की पार्टी को 49 फीसदी वोट मिलने की संभावना है.

वोटिंग शुरू होने से पहले छपे एक सर्वेक्षण में भी कहा गया कि चुनावों की दौड़ में जीत का अंतर बहुत कम रहेगा इसलिए भविष्यवाणी मुश्किल है. एजेंसी नीलसन ने अपने सर्वे में लेबर पार्टी को चार फीसदी मतों से जीतता दिखाया है. उसके मुताबिक गिलार्ड 52 फीसदी वोट हासिल करने में कामयाब रहेंगी.

दो महीने पहले ही लेबर पार्टी ने जॉन हावर्ड को कुर्सी से गिलार्ड को प्रधानमंत्री बनाया. चुनाव के नतीजे भारतीय समय के मुताबिक रात दो बजे से आने शुरू हो जाएंगे लेकिन जानकारों का कहना है कि नतीजों की तस्वीर साफ होने में काफी वक्त लगेगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM