1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

एक पन्ना और साइना के नाम

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने भारतीय खेल इतिहास की किताब में एक और पन्ना अपने नाम का जोड़ दिया है. उन्होंने एक बार फिर हॉन्गकॉन्ग ओपन जीत लिया है जो इस साल उनका तीसरा सुपर सीरीज खिताब है.

default

बैडमिंटन में सुपर सीरीज का रुतबा वैसा ही है जैसा टेनिस में ग्रैंड स्लैम का होता है. और इस बड़े मुकाबले में नेहवाल ने चीन की शिशियान वांग को 2-1 से हराकर खिताब जीता. 20 साल की भारतीय सुपर स्टार साइना का यह चौथा सुपर सीरीज खिताब है. फाइनल में उन्होंने 15-21, 21-16, 21-17 से प्रभावशाली जीत दर्ज की. थर्ड सीड वांग को उन्होंने एक घंटा और 11 मिनट में मात दी.

Saina Nehwal indische Badmintonspielerin

साइना की जीत के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं. उन्होंने इंडियन ओपन ग्रां प्री, सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज, इंडोनेशियन सुपर सीरीज और फिर कॉमनवेल्थ खेलों का गोल्ड मेडल एक के बाद एक जीतते हुए यहां तक का सफर तय किया.

वर्ल्ड रैंकिंग में दूसरे से चौथे पायदान पर चली गईं साइना नेहवाल को इस जीत के बाद नंबर वन की ओर बढ़ने में काफी मदद मिलेगी.

फाइनल मैच में साइना बहुत समझदारी और कूटनीति से खेलीं. पहला गेम हारने के बाद उन्होंने बहुत ही चालाकी से मैच में वापसी की और फिर चीनी खिलाड़ी को चिड़िया छूने का मौका ही नहीं दिया. दूसरे गेम में एक बार स्कोर 5-5 तक पहुंचा, तो फिर साइना उसे 11-5 तक ले जाकर ही थमीं. उसके बाद वांग ने लगातार पांच अंक हासिल करके 11-10 बना लिया. फिर तो जैसे साइना ने ठान लिया कि अब वांग को आगे नहीं जाने देना है. उन्होंने आठ लगातार अंक हासिल किये. यहां से गेम उनके लिए दो ही अंक दूर रह गया जो उन्होंने आसानी से जुटा लिये.

दूसरा गेम जीतने के बाद साइना मैच में 1-1 से वापस आ गईं और उनका आत्मविश्वास चीनी खिलाड़ी पर ऐसा भारी पड़ा कि मैच साइना की झोली में आ गिरा.

रिपोर्टः पीटीआई/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links